UP Board Syllabus SHORT STORIES Pen Pal
UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 3 Long Questions Answer
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class11th
SubjectEnglish
Chapter3
Chapter name DROUGHT
Chapter NumberNumber 3 Long Questions Answer
CategoriesSHORT STORIES Class 11th
UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES DROUGHT Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES DROUGHT
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 3 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 3 Long Questions Answer

Q. 1. Write character of Gafur.
मकूर के चरित्र का चित्रण करो।

Or

Sketch the character of Gafur.
गफूर के चरित्र का चित्रण करो।

Or

According the your view, who is the main character in the story “Drought”?!
Depict his abilities and disabilities of character.
आपके मतानुसार ‘सूखा’ कहानी का मुख्य पात्र कौन है? उसके चरित्र के गुणों, अवगुणों का वर्णन करो।

Ans. In the story ‘Drought,’Gafur is an important character. He was the weaver of the village Kashipur. He was Shibu Babu’s tenant. Shibu Babu was a cruel landlord. Drought has added to his hardship. Gafur has the following qualities in his characters:

A poor weaver : Gafur lives in a small village in Bengal. He is a very poor weaver. He tills about four Bighas of land for the landlord. He is a poor tenant. There is a severe drought. The tanks have dried up. He has neither paddy in the house nor straw to feed bull named Mahesh

His affection for Amina:Gafur has only a daughter. Her name is Amina. Gafur’s wife has died. So Amina is motherless. Gafur has great affection for Amina, One
day Gafur is hungry and thirsty. He finds no water and food in the house. He loses his self control and slaps her. But soon, he repents and his eyes are filled with tears.

His love for his bull: Gafur has a bull. He has named it Mahesh. He loves it as his son. When his share of straw has been taken by the landlord, he feeds the bull
with old straw of his roof. When the bull is sent to the police custody, he pawns his brass plate for one rupee and brings back the bull. Once he decides to sell the bull,
But very soon he changes his idea. He refuses to sell it.

His tortures: One morning his bull Mahesh enters the grounds of the landlord. Mahesh eats up the flowers and disturbs the corn drying in the sun. It then hurts
the daughter of the landlord. As a result of it, Gufur is beaten. He bears the beatings helplessly.

His repentence: After his beating, Gafur hears a shriek of his daughter. Amina is lying on the ground. The pitcher has dropped down her head and the bull is sucking up the water. Seeing this Gafur filled with anger. He stricks on Mahesh’s head. Mahesh dies at once. Then Gafur feels very sorry. He leaves the village.

Conclusion: Gafur is the character having strong and weak aspects both of the

‘Drought’ कहानी में गफूर एक महत्वपूर्ण पात्र है। वह काशीपुर गाँव का जुलाहा था। वह शिबू बादू का किरायेदार था। शिबू बाबू एक निर्दयी जमींदार था। सूखा ने उसकी परेशानियों को बढ़ा दिया है। गफूर के चरित्र में निम्न विशेषताएँ हैं-

एक गरीब जुलाहा-गफूर बंगाल के एक छोटे गाँव में रहता है। वह बहुत ही गरीब जुलाहा है। वह करीब चार बीघा जमीन जमीदार के लिए जोतता है। वह गरीब किरायेदार है। उस समय भयानक सूखा है। तालाब सूख चुके हैं। उसके घर में महेश नामक छैल को खिलाने के लिए न तो धान है और न भूसा

उसका अमीना के प्रति स्नेह–गफूर की एकमात्र बेटी है। उसका नाम अमीना है। गफूर की पत्नी मर चुकी है। अतः अमीना भाताविहीन है। गफूर अमीना के प्रति विशेष स्नेह रखता है। एक दिन गफूर बहुत भूखा और प्यासा है। उसे घर में भोजन व पानी नहीं मिलता है। वह आत्म नियन्त्रण खो देता है और
उसे चौंव मार देता है। लेकिन तुरन्त ही वह पश्चाताप करता है और उसकी आँखें आँसुओं से भर जाती

उसका अपने बैल से प्यार-गफूर के पास एक बैल है। उसने उसका नाम महेश रखा है। वह उससे अपने बेटे की तरह प्यार करता है। जब उसके हिस्से को जमीदार द्वारा ले लिया जाता है, तो वह महेश
को अपने छप्पर का पुराना भूसा खिलाता है। जब बैल को पुलिस हिरासत मे दे दिया जाता है तो वह अपनी पीतल की तश्तरी को एक रुपये में गिरवी रख देता है और बैल को वापस लाता है। एक बार वह बैल को बेचने का निश्चय करता है। लेकिन शीघ्र ही वह अपना विचार बदल देता है। वह उसे बेचने से
मना कर देता है।

उसके कष्ट-एक दिन उसका बैल महेश जमींदार के खेतों में घुस जाता है। महेश फूलों को खा जाता है और सूखते अनाज को खराब कर देता है। फिर वह जमींदार की बेटी को चोट पहुंचाता है। उसके परिणामस्वरूप गफूर की पिटाई होती है। वह असहाय होकर पिटाई को सहन करता है।

उसका पश्चाताप-उसके पिटने के बाद, गफूर अपनी बेटी अमीना की चीख सुनता है। अमीना जमीन पर पड़ी है। घड़ा उसके सिर से गिर गया है और बैल पानी पी रहा है। यह देखकर गफूर क्रोधित हो गया। वह महेश के सिर पर वार करता है। महेश तुरन्त ही मर जाता है। तब गफूर को बहुत पश्चाताप
होता है। वह गाँव को छोड़ देता है।

उपसंहार-गफूर ऐसा पात्र है जिसके जीवन में शक्तिशाली और कमजोर दोनों प्रकार के आयाम हैं।

Q. 2. List the circumstances that led to the killing of the bull Mahesh.
बैल महेश को मारने की उत्तरदायी परिस्थितियों को बताओ।

Or

What part does the bull Mahesh play in the story ‘Drought’? How does the tragedy deepen?

Ans. Introduction : Circumstances play an important role in the life of a man. The story ‘Drought’ is a living example of this fact. Here Gafur is enslaved to his conditions what have been produced by the nature. No drop of rain has rained. Men and animals get no food to eat and no water to drink.

Troubles of Mahesh : The bull of Gafur had given trouble to him many times. He had eaten the landlord’s flowers many times. Every time Gafur had prayed to the landlord to forgive him. The priest Tarakratna had scolded Gafur for the bull. Manik Ghose had sent him to the police pen. Gafur always loved Mahesh

The tragedy deepens: One day Gafur was hungry and thirsty. He was called by the master. The messenger called him ugly names. He said that he was no body’s
slave. He paid rent to live there. He was beaten for it. It was because Mahesh bad entered the landlord’s fields. He had eaten the flowers and hurt landlord’s daughter.
Mahesh had spilled the water and hurt Amina. Gafur could not bear it. He lost control and hit hard on the head of Mahesh, Mahesh had died. This deepened the
tragedy of Gafur.

प्रस्तावना-परिस्थितियाँ मनुष्य के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं! ‘सूखा’ कहानी इस तथ्य का जीता-जागता उदाहरण है। यहाँ गफूर प्रकृति द्वारा उत्पन्न हालातों का दास है। पानीकी एक बूंद भी नहीं बरसी है। मनुष्यों और जानवरों के लिए न भोजन है और न पीने के लिए पानी है।

महेश की परेशानी-गफूर के बैल द्वारा उसे कई बार परेशानी में डाला गया है। गफूर ने हर बार जमींदार से उसे माफ करने की प्रार्थना की थी। पुजारी तारकरन ने उसे बैल के लिए प्रताड़ित किया था। मानिक घोष ने उसे मवेशीखाने में पहुँचाया था। गफूर हमेशा महेश से प्यार करता था। .

दुःख गहराता है-एक दिन भफर भूखा और प्यासा था | उसे मालिक द्वारा बुलाया गया। संदेशवाहक ने उससे भला-बुरा कहा। उसने कहा कि वह किसी का नौकर नहीं था। उसने कहा कि वह वहाँ रहने का किराया देता था। उसे इस बात पर पीटा गया। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि महेश जमींदार के बगीचे में घुस गया था। उसने फूल खा लिए और जमींदार की लड़की को चोट पहुंचाई थी। महेश ने पानी फैला विया था और अमीना को चोट पहुँचाई थी। गफूर इसे सहन नहीं कर सका । उसका सन्तुलन बिगड़ गया
और उसने महेश के सिर पर जोर से चोट मारी। महेश मर गया था। उससे गफूर का दुख और बढ़ गया।

Q.3. Where does the story’Drought’ take place and what was the effect of the drought there?
“सूखा’ कहानी कहाँ घटिरा होती है और वीं सूखे का क्या प्रभाव था?

Ans. Introduction: The story ‘Drought’ takes place at a small village Kashipur in west Bengal. Gafur was a poor weaver lived in Kashipur. It was difficult to support
the livelihood for Gafur.

Effects of the drought:

  1. That year paddy crop was not good. Small farmers could not get enough rice to eat and straw to feed their cattle.
  2. There were no rains. Hence there was scarcity of drinking water. The little water that there was stile in the private tank of Shibu Babu.
  3. Gafur was a poor small farmer. He could get a little rice. Which could not last even three months.
  4. There was no grass where Gafur could graze his bull.
  5. Gafur suffered a lot on account of his bull.
  6. When Gafur was hungry, thirsty and tired, he could not get food and water. So he lost control and killed his bull.
  7. Gafur had to leave the village on account of drought.

Conclusion: The drought caused very critical situation. It effected all the men and animals. The total area of West Bengal was effected on account of the drought.

प्रस्तावना-‘Drought’ कहानी पश्चिम बंगाल के एक छोटे से गाँव काशीपुर में घटित होती है। गफूर एक गरीब जुलाहा था जो काशीपुर में रहता था। गफूर के लिए जीवन यापन करना बहुत कठिन था।

सूख का प्रमाय-

  1. उस वर्ष धान की फसल बहुत खराब थी। छोटे किसानों को खाने के लिए चावल और जानवरों के लिए भूसा नहीं मिला।
  2. वर्षा हुई नहीं थी। इसलिए पीने के पानी का अभाव था। जो थोड़ा-सा पानी था वह शिबू वायू के निजी तालाब में था।
  3. गफूर एक छोटा गरीब किसान था। उसे थोड़ा सा चावल मिला जो मुश्किल से तीन माह तक के लिए भी काफी नहीं था।
  4. घास नहीं थी जहाँ गफूर अपने बैल को चरा सके।
  5. गफूर को अपने बैल के कारण काफी कुछ सहन करना पड़ा।
  6. जब गफूर भूखा, प्यासा और थका हुआ था तो उसे भोजन और पानी नहीं मिला। इसलिए उसने मानसिक सन्तुलन खो दिया और महेश (बैल) को मार दिया।
  7. सूखे के कारण गफूर को गाँव छोड़ना पड़ा।

उपसंहार-सूखे से स्थिति बहुत दयनीय हो गई। इसने सभी लोगों और जानवरों को प्रभावित किया। सूखे से पश्चिमी बंगाल का सम्पूर्ण क्षेत्र प्रभावित हुआ।

Q. 4. Why did Gafur scold Amina? Was he justified in doing so?
गफूर ने अमीना को भला-बुरा क्यों कहा? क्या उसका ऐसा करना उचित था?

Ans. Introduction : Gafur was a poor farmer in a small village. The whole village was in the grip of severe drought. There was no food and water to eat and
drink. Gafur was very much worried about his livelihood and tortures.

Gafur scolds Amina: Gafur came home at noon. He was hungry, thirstry and tired. Everything was dark before his eyes. He asked his daughter if the food was ready. She replied that there was no rice in the house. He then asked for water Amina said that the water is also not in the house. Realizing that there was not even a drop of water or food, he lost his control and slapped her face. In this way Gafur scolded Amina.

He was not justified: Gafur became thoughtless and slapped very hard on Amina’s face. He lost control over himself. This action was not justified. Because
she was not at fault. She could not prepare food due to lack of rice. She had told about this in the morning. Due to drought all the tanks were dry. So she could not
bring water. Therefore, Gafur was not justified. He scolded Amina only because he became thoughtless. |

प्रस्तावना-गफूर एक छोटे से गाँव का गरीब किसान था। पूरा गाँव गम्भीर सूखे की चपटे में था। खाने-पीने के लिए भोजन व पानी नहीं था। गफूर अपने जीवनयापन और शोषण के प्रति बहुत चिन्तित
था।

गफूर अमीना को डाँटता है-गफूर दोपहर को घर लौटा। वह भूखा, प्यासा और थका हुआ था। उसे आँखों से प्रत्येक वस्तु काली दिखाई दे रही थी। उसने अपनी पुत्री से पूछा कि क्या भोजन तैयार था। उसने उत्तर दिया कि घर में चावल नहीं था। फिर उसने पानी लाने के लिए कहा। अमीना ने कहा
कि घर में पानी भी नहीं था। यह जानकर कि घर में पानी की बँद तक नहीं है और न भोजन है. उसका मानसिक सन्तुलन बिगड़ गया और उसने अमीना के गाल पर चांटा मार दिया। इस प्रकार गफूर ने अमीना को डॉटा-फटकारा।

उसके साथ न्याय नहीं हुआ-गफूर विवेकशून्य हो गया और अमीना के गाल पर जोर से थप्पड़ मार दिया। उसने अपना मानसिक सन्तुलन खो दिया। यह कार्य न्यायोचित नहीं था। क्योंकि अमीना की गलती नहीं थी। वह बिना चावल के खाना नहीं पका सकती थी। उसने इस बारे में सुबह ही बता दिया
था। सूखे के कारण सभी तालाब सूख गये थे। इसलिए वह पानी नहीं ला सकी। इसलिए गफूर का व्यवहार उचित नहीं था। उसने अमीना को इसलिए डॉटा क्योंकि वह विवेकशून्य हो गया था।

Q.5. Was Gafura cruel old man? Give reasons for your answer.
क्या गफूर एक निर्दयी बूदा व्यक्ति था? अपने उत्तर में तर्क दो।

Ans. Introduction:Gafur was notacruelold man.Circumstances.compelled him to become cruel. That day he was in great tension. He could get no work. He was hungry, thirsty and tired. He had slapped Amina whom he loved very much. He was very sorry for it. There were tears in his eyes for that. Just then the landlord’s
messenger came to call him.

The bull gave him troubles : When he reached the landlord, he was called by ugly names and dragged away. Hungry and thirsty, he was beaten too. His eyes and
face were swollen. This was because of the bull. The bull had given him trouble many times. Today was the worst. And now the bull attacked Amina, spilled the water and sucked the water that she had brought. Gafur was extremely angry.

Conclusion: Gafur hit the bull hard. His intention was not to kill it. But the hungry and lean body of the bull could not bear it and it died. He repented. So we can say that Gafur was not a cruel old man. He loved Amina. He loved the bull. He did not sell it to the butcher. Circumstances made him so.

भूमिका-गफूर क्रूर बूढ़ा आदमी नहीं था। परिस्थितियों ने उसे निर्वयी बना दिया। उस दिन वह बहुत तनाव में था। उसे काई काम नहीं मिला। वह भूखा, प्यासा और थका हुआ था। उसने अमीना को चौटा मार दिया जिसे वह बहुत प्यार करता था। उसे इसका काफी दुख था। इसके लिए उसकी आँखों
में आँसू थे। तभी जमीवार का सन्देशवाहक उसे बुलाने आ गया।

बैल ने उसे मुसीबतें दी-जब वह जमींदार के पास पहुँचा, उसे भद्दी गालियाँ दी गई और घसीटा गया। भूखे, प्यासे को पीटा भी गया। उसकी आँखें और चेहरा सूज गया था। इसका कारण था बैल । बैल ने उसे कई बार परेशान किया था। आज की परेशानी सबसे अधिक थी। अब उसने अमीना पर हमला किया, पानी गिराया और उसे पी लिया जिसे वह लाई थी। गफूर को अत्यधिक क्रोध था।

निष्कर्ष-गफूर ने बैल को जोर से मारा। उसका इरादा उसे मारने का नहीं था। लेकिन भूखा, कमजोर थैल का शरीर इसे सहन नहीं कर सका और वह मर गया। उसने पश्चाताप किया। अतः हम कह सकते हैं कि गफूर एक क्रूर बूदा आदमी नहीं था। वह अमीना को प्यार करता था। वह बैल को भी प्यार करता था। उसने उसे कसाई को नहीं बेचा ! परिस्थितियों ने उसे ऐसा बना विया।

Q.6. What picture of Gafur’s plight do you get from the conversation he had with the priest? Do you think the priest had genuine sympathy for Gafur? Give reasons in support of your answer.

गफूर के पुजारी से वार्तालाप से आप उसकी स्थिति की क्या तस्वीर प्राप्त करते हैं? क्या आप सोचते हैं कि पुजारी गफूर के प्रति उचित सहानुभूति रखता था? अपने उत्तर की पुष्टि में तर्क दीजिए।

Ans. Introduction: Gafur was a poor farmer. He lived in Kashipur village with his daughter, Amina. He used to till the land for the Zamindar. It did not rain at all
that year. The field remained dry. Gafur was in debt. Gafur had no nice to eat. There was no straw with Gafur to feed his bull Mahesh.

Conversation between Gafur and Tarakratana: Tarakratna was a Brahmin One day, in the hot noon of May, Tarakratna was standing in the shade of a tree by
the roadside. He called out, “Hay! Galturl is anybody in ?” “What do you want ? Father isdown with fever,” answered Gafur’s daughter Amina.” Fever! call the scoundrel !” Gafur came out, shivering with fever. A bull was tied to the old acacia. “What do I see there?” demanded Tarakratna, indicating the bull.” Do you realise that this is a Hindu village and the landlord himself a Bralunin ?” “Well, I saw it tied there in the morning and it’s still there. If the bull dies, your master will flay you alive. He is no ordinary Brahmin!”

Gafur’s plight: The condition, we imagine, of Gafur is very miserable. He 18 poor, weak and down trodden. The priest rebuked him. We can imagine the help

lessness of Gafur. He has no rice to eat and no water to drink. He has no straw for his bull. He tolerates all the tortures of the landlord. At last he decides to leave the
village.

Conclusion: The story depicts the real picture of the society. The position of poor farmers in those days was miserable. Poverty compelled them to tolerate all
kinds of bad behaviours of the Zamidars.

भूमिका-गफूर गरीब किसान था। वह अपनी बेटी अमीना के साथ काशीपुर गाँव में रहता था। वह जमींदार के खेत जोतता था। उस वर्ष बिल्कुल वर्षा नहीं हुई। खेत सखे रह गये। गफर पर कर्ज था। गफूर के पास खाने को चावल नहीं था। अपने बैल महेश के लिए उसके पास भूसा नहीं था।

गफूर और तारकरत्न के मध्य वार्तालाप-तारकरत्न एक ब्राह्मण था। एक दिन, मई की गर्म . दोपहर को, तारकरत्न सड़क किनारे एक पेड़ की छाया में खड़ा था। उसने आवाज लगाई, ओ, गफूर | क्या कोई अन्दर है ? “आप क्या चाहते हैं? पिताजी को बुखार है. गफूर की बेटी अमीना ने उत्तर दिया। ‘बुखार बदमाश को बाहर बुलाओ।” बुखार से कॉपता हुआ गफूर बाहर आया। एक बैल एक पेड़ से बँधा था। “मैं वहाँ क्या देख रहा हूँ ?” बैल की ओर इशारा करते हुए तारकरन ने पूछा। ‘क्या तुम्हें पता है कि यह एक हिन्दू गाँव है और जमींदार स्वयं एक ब्राह्मण है? “अच्छा, मैंने इसे सुबह भी यहाँ बँधा देखा था और यह अब भी वहीं है। यदि बैल मर गया तो तुम्हारा मालिक तुम्हारी खाल उधेड़ देगा। वह मामूली ब्राह्मण नहीं है।

गफूर की हालत-हम कल्पना करते हैं कि गफूर की हालत बहुत दयनीय है। यह गरीब, कमजोर और दलित है। पुजारी ने उसे भला-बुरा कहा । हम गफूर की दयनीयता की कल्पना कर सकते है। उसके पास खाने को चावल नहीं है और पीने को पानी नहीं है। उसके पास बैल के लिए भूसा नहीं है। वह जमींदार के सभी जुल्मों को सहन करता है। अन्त में वह गाँव छोड़ने का निश्चय करता है।

निष्कर्ष-कहानी में समाज की सही तस्वीर का चित्रण है। उन दिनों गरीब किसानों की हालत दयनीय थी। गरीबी उन्हें जमींदारों के सभी प्रकार के बुरे व्यवहार को सहन करने को मजबूर करती थी।

UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES DROUGHT Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES DROUGHT
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 3 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 3 Long Questions Answer

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Share via
Copy link
Powered by Social Snap