UP Board Syllabus SHORT STORIES Pen Pal
UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Long Questions Answer
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class11th
SubjectEnglish
Chapter4
Chapter name THE SELFISH GIANT
Chapter NumberNumber 3 Long Questions Answer
CategoriesSHORT STORIES Class 11th
UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES THE SELFISH GIANT Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES THE SELFISH GIANT
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Long Questions Answer

Q.1.What do you learn from the story The Selfish Giant’ ?
‘The Selfish Giant’ कहानी से आपको क्या शिक्षा मिलती है?

Or

What does the story ‘The Selfish Giant’ teach? |
The Selfish Giant’ कहानी हमें क्या शिक्षा देती है?

or

What message do you find in the story”The Selfish Giant’ ?
‘The Selfish Giant’ कहानी से हमें क्या सन्देश मिलता है? |

or

Is there any moral teaching through thestorv The Selfish Giant’? Discuss.
क्या ‘The Selfish Giant’ कहानी के द्वारा कोई नैतिक शिक्षा दी गई है ? तर्क दीजिए।

Or

Narrate ‘TheSelfish Giant’ in your own words. What does thestory teach?
‘The Selfish Giant’ कहानी का अपने शब्दों में वर्णन करो। कहानी हमें क्या शिक्षा देती है? ।
Ans. Introduction : The story ‘The Selfish Giant’ teaches us that love creates beauty and selfishness creates ugliness.We must love the children. They are the dearest thing in the world. This world is shining with the love of children. On the other hand selfishness makes us narrow in outlook. . Selfishness of theGiant: The Giant was very selfish. He loved hisgarden very much buthe hated the children. He did notallow the children to enter his garden. The result was that thespring season did not come to his garden.While the Giant
was absent from there, the spring was prevailing continuously for seven years..

Importance of love : The Giant went to his friend. He came back after seven years oftime. During this long period, the children played in thegarden.When the Giant came back, he saw the children playing in the garden. He became angry. He builtahigh wall around the garden with the result, the beauty of the garden with- ered away. Beauty remains there where love prevails.

The result of selfishness : Due to selfishness of the Giant the spring never returned.There was permanent winter. No flower blossomed and no bird tried to sing. The Giant was very sad.
Giant’s heart changed:The Giant saw that thechildren had entered the gar- den through a whole in the high wall around the garden. They were sitting in the branches of the tree. The Giant sawalittle child standing under a tree. He was too
small to reach upto the branches of the trees. He cried bitterly. Hearing the cry of the child, the heart of the Giant melted. He realized his selfishness. He knocked

down the high wall of the garden. He allowed the children to play in the garden for ever.

Conclusion: The Giant began to love children. The small boy was the angel who took the Giant to his garden. The garden was paradise itself. This story teaches
us the importance of love. Love is the secret of all the beauty and joy in the world. Selfishness is another name of ugliness.

भूमिका-‘The Selfish Giant’ कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि प्रेम से सुन्दरता उत्पन्न होती है और स्वार्थ से कुरूपता उत्पन्न होती है। हमें बच्चों से प्रेम करना चाहिए। वे संसार की सबसे प्रिय वस्तु है। यह संसार बच्चों के प्रेम से चमक रहा है। दूसरी ओर स्वार्थ हमारे दृष्टिकोण को संकीर्ण बनाता

दानव की स्वार्थपरता-दानव बहुत स्वार्थी था। वह अपने बगीचे को बहुत प्यार करता था लेकिन बच्चों से बहुत घृणा करता था। वह बच्चों को अपने बगीचे में प्रवेश की अनुमति नहीं देता था। परिणामस्वरूप उसके बगीचे में वसन्त नहीं आया। जब दानव वहाँ से अनुपस्थित था तो लगातार सात
वर्ष तक वहाँ वसन्त आता रहा।

प्रेम का महत्त्व-दानव अपने मित्र के पास गया। वह सात वर्ष के बाद आया । इस समय में बच्चे बगीचे में खेलते थे। जब दानव वापस आया तो उसने बच्चों को बगीचे में खेलते हुए देखा। वह क्रोधित हुआ। उसने बगीचे के चारों ओर ऊँची दीवार बनवाई। परिणामस्वरूप बगीचे की सुदरता मुरझा गई।
सुन्दरता वहाँ रहती है जहाँ प्रेम रहता है।

स्वार्थपरता का फल-दानव की स्वार्थपरता के कारण बसन्त कभी लौटकर नहीं आया। वहीं स्थायी । शीत ऋतु हो गई। कोई फूल नहीं खिला और न किसी चिड़िया ने गाना गाने का प्रयास किया। दानव
‘बहुत उदास था।

दानव का हृदय परिवर्तन-दानव ने देखा कि बगीचे की ऊँची दीवार में एक छोटे से छिद्र में से होकर बच्चे बगीचे में घुस गये। वे पेड़ की शाखाओं पर बैठे थे। दानव ने एक छोटे बच्चे को पेड़ के नीचे खड़े देखा। वह पेड़ की शाखाओं पर पहुंचने के लिए बहुत छोटा था। यह बुरी तरह चिल्लाया। बच्चे की चिल्लाने की आवाज सुनकर वानव का हृदय पिघल गया। उसने अपनी स्वार्थपरता को महसूस किया। उसने बगीचे की ऊंची दीवार को गिरा दिया। उसने हमेशा के लिए बच्चों को बगीचे में खेलने की अनुमति दे दी।

उपसंहार-दानव बच्चों को प्यार करने लगा। छोटा बच्चा देवदूत था जो दानव को उसके बगीचे में। ले गया। बगीचा स्वय स्वर्ग था। यह कहानी प्रेम के महत्त्व को सिखाती है। प्रेम संसार की सम्पूर्ण सुन्दरता और आनन्द का रहस्य है। कुरूपता का दूसरा नाम स्वार्थपरता है। ।

Q. 2. Who was the little child who could not climb the tree? How did he
reward the Giant for his garden?
छोटा बच्चा कौन था जो पेड़ पर नहीं चढ़ सका? उसने दानव को उसके बगीचे का किस प्रकार पुरस्कार दिया?

Ans. Introduction: When the Giant came back after a long period of seven years, he saw a most wonderful sight through the window. Children had entered the garden through a little hole in the high wall around the garden. They were sitting on the branches of the trees. Every branch of the trees was covered with children. The trees became glad to have children back again.

Giant’s changing behaviour: The Giant’s heart changed and melted. He took the little boy in his arms. He put him on the top of the tree. The Giant loved him very much because the boy had kissed him.

Little boy an angel : The Giant saw the little boy under the tree. The tree had golden branches and silver fruits. The Giant felt joy when he came near the little

child. He saw the prints of nails on his hands and feet. The little boy was an angel, He was Jesus christ himself.

Little boy rewarded the Giant: When the Giant came to the little boy, he gave up hatred, anger and selfishness from his heart. He began to love the children. He allowed the children to play in his garden. The Giant was rewarded for his garden by the angel (the little boy). He took the Giant to his garden. Which is called para dise.

भूमिका-जब दानव सात वर्ष के लम्बे समय के बाद वापस आया तो उसने खिड़की से अत्यन्त आश्चर्यजनक दृश्य देखा। बच्चे बगीचे की ऊंची दीवार में छिद्र से प्रवेश कर गए थे। वे पेड़ों की शाखाओं पर बैठे थे। पेड़ों की प्रत्येक शाखा बच्चों से ढकी थी। पेड़ बच्चों को वापस देखकर बहुत प्रसन्न
थे।

दानव का परिवर्तित व्यवहार-दानव का हृदय परिवर्तित हो गया था और पिघल गया था। उसने छोटे बच्चे को अपनी बाहों में ले लिया। उसने बच्चे को पेड़ की चोटी पर बैठा दिया। दानव उसे बहत प्यार करता था क्योंकि बच्चे ने उसे चूम लिया था।

छोटा बच्चा एक देवदूत-दानव ने छोटे बच्चे को एक पेड़ के नीचे देखा। पेड की शाखाएँ सनहरी थी और चांदी के फल थे। जब दानव के पास आया तो उसे प्रसन्नता हुई। उसने उसके हाथों और पैरों में नाखूनों के चिह्न देखे। छोटा लड़का एक देवदूत था। वह स्वयं ईसा मसीह था।

छोटे बच्चे ने दानव को पुरस्कार दिया-जब दानव छोटे बच्चे के पास आया, तो उसने घणा, क्रोध और स्वार्थपरता अपने दिल से त्याग दी थी। वह बच्चों से प्यार करने लगा था। उसने बच्चों को अपने बगीचे में खेलने की अनुमति दे दी थी। दानव को उसके बगीचे के लिए छोटे बच्चे (देवदूत) द्वारा इनाम
दिया गया था। वह दानव को अपने बगीचे अर्थात् स्वर्ग में ले गया।

Q.3. How was the little child capable of taking the Giant to Paradise ?
छोटा बच्चा दानव को स्वर्ग ले जाने में कैसे समर्थ हुआ?

Or

Who carried the Giant to Paradise? What method was adopted by the little child to convert the heart of the Giant?
दानव को स्वर्ग कौन ले गया? दानव का हृदय परिवर्तित करने के लिए छोटे बच्चे ने क्या विधि अपनाई?

Ans. The little child showed love towards the Giant first. He kissed him. In this way he tried to change the heart of the Giant. He adopted the theory of tit for tat. It
means love begets love and hatred grows hatred.By this method the little child was capable of taking the Giant to Paradise.

The outlook of the little child changed and broadened the mind and heart of the Giant. He lost the feeling of hatred and selfishness. The Giant loved the little child very much. He had a smile on his face. He allowed the children to play in his garden.

The little child (Jesus christ) asked the Giant to go with him to his garden. The little child’s garden was Paradise itself. Thus, he was capable of taking the Giant to
Paradise.

छोटे बच्चे ने पहले बनव के प्रति प्रेम प्रदर्शित किया। उसने उसको चूमा। इस प्रकार बच्चे ने उसका उदय परिवर्तित करने का प्रयास किया। उसने जैसे को तैसा का सिद्धान्त अपनाया। अर्थात प्रेम से प्रेम उत्पन्न होता है और घृणा से घृणा उत्पन्न होती है। इस विधि से छोटा बालक दानव को स्वर्ग तक ले
जाने में सफल हो गया।

छोटे बालक के दृष्टिकोण ने दानव के मन और उदय को परिवर्तित तथा विस्तृत कर दिया। उसने घृणा और स्वार्थपरता की भावना त्याग दी। दानव छोटे बच्चे को बहुत प्यार करता था। उसके चेहरे पर मुस्कराहट थी। उसने बच्चों को अपने बगीचे में खेलने की आज्ञा दे दी।

छोटे बच्चे (ईसा मसीह) ने दानव से उसके बगीचे में चलने को कहा। छोटे बालक का बगीचा स्वयं बर्ग था। इस प्रकार वह दानव को स्वर्ग में ले जाने में सफल हो गया।

Q.4.llow did the selfish Giantcome to realise his selfishnesst
स्वार्थी दानव अपनी स्वार्थपरता के बारे में कैसे जान पाया?

Ans. “The Selfish Giant’ is a very beautiful story. The theme of the story is based on a very simple reality of life, that is the principle of sharing and love for children. There was a Glant who usually was called to be very selfish. He was the owner of a beautiful garden. He did not allow the children to enter the garden. The children were not allowed to play into his garden. He built a high wall all around the garden. So the children were unhappy.

The spring came all over the country. But the spring did not come the garden of the selfish Giant. The Giant was unable to know the reason why the spring was so
late in coming there. The autumn also failed to visit it. One day the Giant saw a wonderful sight. The children had crept silently in the garden of the selfish Giant
They were sitting in the branches of the trees. The trees were glad to have children in the garden. The trees were covered with blossoms. The birds were flying about.
It was a lovely sight.

·The heart of the selfish Giant melted. He came to know why the spring did not come there. He put a little boy on the top of the tree and then the knocked down the
wall. He turned his garden into the playground for the children for ever. Thus the selfish Giant came to realise his selfisless.

“The Selfish Giant’ एक सुन्दर कहानी है। कहानी की पृष्ठभूमि जीवन की सरल वास्तविकता पर आधारित है। अर्थात् बच्चों के प्रति प्रेम और व्यस्तता का सिद्धान्त एक दानव था जो साधारणतया बहुत स्वार्थो कहलाता था। वह एक सुन्दर यगीधे का मालिक था। वह बच्चों को बगीचे में प्रवेश नहीं
करने देता था। उसने बगीचे के चारों ओर ऊँची दीवार बनवा दी। इसलिए बच्चे बहुत अप्रसन्न थे।

पूरे देश में बसन्त ऋतु आई थी। लेकिन स्वार्थी दानव के बगीचे में वसन्त ऋतु नहीं आई थी। दानव को पता नहीं चला कि वहाँ बसन्त ऋतु क्यों नहीं आई थी। पतझड़ भी यहाँ नहीं आया। एक दिन थानन ने एक आश्चर्यजनक दृश्य देखा। बरदै चुपचाप स्वार्थी दानव के बगीचे में घुस गये थे। ये पेड़ों की
खालियों पर बैठे थे। पेड़ भी बच्चों को बगीचे में देखकर प्रसन्न थे। पेड़ फूलों से लदे थे। चिड़ियां उड़ रही. थी। यह बड़ा सुहावना दृश्य था।

स्वार्थी दानव का दिल पिघल गया। वह जान गया कि वहाँ वसन्त क्यों नहीं आया था। उसने एक छोटे बालक को एक पेड़ की चोटी पर बैठा दिया और फिर उसने दीवार को गिरा दिया। उसने हमेशा के लिए अपने बगीचे को खेल के मैदान में परिवर्तित कर दिया। इस प्रकार वानप अपनी स्वार्थपरता के बारे
में जान पाया।

Q.5. Why did the spring not come to the Giant’s garden? Describe the condi- tions that prevailed in the garden.
दानव के बगीचे में वसन्त ऋतु क्यों नहीं आई? बगीचे में व्याप्त हालातों का वर्णन करो।

Ans. There was a selfish Giant.He always thought of his own interests. He was the owner of a beautiful garden. He did not allow the children to enter the garden
and they were not allowed to play into his garden. He hated the childreri, the children did not come to the garden to play there so the real beauty of the garden
withered away. The spring did not visit the garden. The birds did not come to sing in it. The trees failed to blossom.

A beautiful flower in the garden put out its head from the grass and read the notice on the board. The notice was presented by the Glant. It concerned to prohl-

bition of trespassers. The flower felt very sad because the children were not al- lowed to enter the garden to play. Therefore, the flower also went back to the
ground.

The spring came all over the country. But the winter still prevailed in Giant’s garden. The Giant could not understand what the reason was that the spring had
not come by then into his garden.

  • उत्तर-एक स्वार्थी दानव था। वह हमेशा अपने हित के बारे में सोचता था। यह एक सुन्दर बगीचे का मालिक था। वह बच्चों को अपने बगीचे में घुसने की आशा नहीं देता था और बच्चों को उसके बगीचे में खेलने की अनुमति नहीं थी। बच्चे उसके बगीचे में खेलने के लिए नहीं आते थे इसलिए बगीचे की

असली सुन्दरता मुरझा गई थी। बसन्त ने उसके बगीचे की यात्रा नहीं की। घिड़ियाँ उसमें गाना गाने नौ आयो । पेड़ों पर फूल नहीं आए।
. बगीचे में एक सुन्दर फूल ने घास में से अपना सिर निकाला और बोर्ड पर एक सूचना पढ़ी। सूचना ‘दानव के द्वारा लगाई गई थी। यह सूचना अनाधिकार प्रवेश की मनाई के बारे में थी। फूल को बहुत दुःख
हुआ क्योंकि बच्चों को बगीचे में खेलने की अनुमति नहीं दी गई थी। इसलिए फूल भी वापस घास के अन्दर चला गया।

पुरे देश में वसन्त ऋतु आई। लेकिन दानव के बगीरे में अब भी शीत ऋतु थी। दामक नहीं जान पाया कि उसके बगीचे में वसन्त ऋतु क्यों नहीं आई थी।

Q. 6. How did the selfish Giant treat the children in the story “The Selfish Giant?”
The Selfish Giant’ कहानी में स्वार्थी दानव बच्चों से किस प्रकार का व्यवहार करता था?

Ans. Introduction: It was the Giant’s garden. The Giant was very selfish. He did not allow the children to enter his garden. He built a high wall around his garden. The Giant went to visit his friend. He came back after seven years. When he arrived, he saw the children playing in the garden.

His behaviour: When he saw the children playing in the garden he cried in a gruff voice, “What are you doing there?” The children ran away. The Giant said that
it was his own garden. He would allow nobody to play in it but himself. He bullt a high wall around the garden. He put a notice board: “Trespassers will be pros. ecuted. He was a very selfish Giant. The poor children had no other place to play.

Conclusion: The behaviour of selfish Giant towards the children was very harsh. The children were very unhappy. But Nature reacted the treatment of the selfish Giant. There was spring all over the country but it did not visit the garden of the selfish Giant. At last the Giant’s heart melted. He allowed the children to play in hisgarden. He knocked down the high wall. Thus he becarnekind hearted.

  • प्रस्तावना-यह दानव का बगीचा था। दानव बहुत स्वार्थी था। वह बच्चों को बगीचे में घुसने नहीं देता था। उसने अपने बगीचे के चारों ओर ऊंची दीवार बनवा दी थी। दानव अपने मित्र से मिलने गया। वह सात वर्ष बाद वापस आया! जब वह वापस आया तो बच्चों को बगीचे में खेलते हुए पाया।
    .. उसका व्यवहार-जब उसने बच्चों को बगीचे में खेलते हुए देखा तो वह तेज आवाज में चिल्लाया, “तुम वहाँ क्या कर रहे हो? बच्चे भाग गए। दानव ने कहा कि यह उसका बगीचा है। वह अपने अतिरिक्त किसी को भी खेलने की आशा नहीं देगा। उसने बगीचे के चारों ओर ऊँची दीवार बनवा वी।
    उसने एक सूचना पट लगा दिया। अनाधिकार प्रवेश करने वालों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जाएगी वह बहुत स्वार्थी दानव था। बेचारे बच्चों के खेलने के लिए दूसरा कोई स्थान नहीं था।

उपसंहार-स्वार्थी दानव का व्यवहार बच्चों के प्रति बहुत कठोर था। याचे बहत अप्रसन्न थे। लेकिन प्रकृति ने स्वाची दानव के व्यवहार का प्रतिकूल प्रभाव दिखाया। पूरे देश में वसन्त ऋतु आई

किन स्वार्थी दानव के बगीचे में नहीं आई। अन्त में स्वार्थी दानव का दिल पिघल गया। उसने बच्चों को बगीचे में खेलने की आज्ञा दे दी। उसने ऊंची दीवार गिरा दी। इस प्रकार वह दयालु अवय बन गया।

Q. 7. How did nature punish the Giant for his selfishness?
प्रकृति ने स्वार्थी दानव को उसकी स्वार्थपरता के लिए किस प्रकार दण्डित किया?

Or

What punishment did The Selfish Giant get for his unfair behaviour with the little children? How happy he was after making amends ?
बच्चों से अनुचित व्यवहार करने पर दानव को क्या दण्ड मिला ? सुधार करने पर वह कैसे प्रसन्न था?

Ans. Introduction: The Sellish Giant erected a high wall around his garden to stop the children from playing there. He put a notice board to this effect.

Nature’s punishment: The spring came all over the country. But in the garden of the selfish Giant there was still winter. The birds did not sing in the garden

cause there were no children, and the trees forgot to blossom. Once a beautiful flower put its head out from the grass, but when it saw the notice board it was so
sorry for the children that it slipped back into the ground again.

Inmates of the garden: The only people who were pleased were the snow and the frost. They cried that “They would live there all the year round. The snow covered up the grass. The frost painted all the trees silver. The North wind came and roared all day about the garden. The Hail came. It rattled on the roof of his castle and broke most of the slates. Then it rained round the garden. The autumn gave golden fruits to every garden, but to the Giant’s garden it gave none.It said,
“He is too Selfish.”

Conclusion: The Selfish Giant could not understand why the spring was so late in coming when he used to look out at his cold white garden. Thus Nature punished the Giant for his selfishness. .

भूमिका-स्वार्थी दानव में बच्चों को खेलने से रोकने के लिए अपने बगीचे के चारों ओर ऊँची दीवार खड़ी कर दी। उसने इसी आशय का एक सूचना पट भी लगा दिया।

प्रकृति का दण्ड-पूरे देश में वसन्त आया। लेकिन स्वार्थी दानव के बगीचे में अब भी सर्दी का मौसम बना हुआ था। उसके बगीचे में पक्षी नहीं चहचहाए क्योंकि वहाँ बच्चे नहीं थे तथा पेड़ों पर भी फूल नहीं लगे। एक बार एक सुन्दर फूल ने घास से बाहर अपना सिर निकाला, परन्तु जब उसने सूचना
पट देखा तो बच्चों के न होने पर उसे इतना अधिक दुख हुआ कि वह फिर से भूमि में वापस चला गया।

बगीचे के निवासी-बर्फ और बर्फीली हवा ही ऐसे तत्व थे जो प्रसन्न थे। वे चिल्लाए कि वे पूरी साल वहीं रहेंगे। बर्फ ने घास को ढक दिया । बर्फीली हवा ने सभी पेड़ों को सफेद रूपहला बना दिया। उत्तरी हवा आई और सारे दिन उद्यान में तेज गति से चलती रही। ओले बरसे। ये दानव के दुर्ग पर पड़ते
रहे और उन्होंने अधिकांश स्लेटों को तोड़ डाला ! फिर वह बाग की ओर दौड़ा। पतझड़ ने सभी बगीचों को सुनहरी फल दिए, परन्तु दानव के बगीचे को उसने कोई फल नहीं दिया। पतझड़ ने कहा, ‘दानव बहुत स्वार्थी है।

निष्कर्ष-वानव ने अपने ठण्डे, सफेद बगीचे की ओर देखा तो वह यह नहीं समझ सका कि वसन्त आने में देर क्यों हो रही है। इस प्रकार प्रकृति ने दानव की स्वार्थपरता के लिए उसे दण्ड दिया।

UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES THE SELFISH GIANT Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES THE SELFISH GIANT
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Long Questions Answer

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

40 − = 30

Share via
Copy link
Powered by Social Snap