UP Board Syllabus SHORT STORIES THE GOLD WATCH
UP Board Syllabus SHORT STORIES 12th Chapter 2 Long Questions Answer
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class12th
SubjectEnglish
Chapter2
Chapter name AN ASTROLOGER’S DAY
Chapter NumberNumber 2 Long Questions Answer
CategoriesSHORT STORIES Class 12th
UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES AN ASTROLOGER’S DAY Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES AN ASTROLOGER’S DAY
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 12th Chapter 2 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 12th Chapter 2 Long Questions Answer

Q. 1. Sketch the character of the astrologer.
ज्योतिषी का चरित्र-चित्रण कीजिए।

Or

Give the brief account of the character of the astrologer in the story ‘An Astrologer’s Day!
‘An Astrologer’s Day कहानी में ज्योतिषी के चरित्र का संक्षेप में विवरण दीजिए।

Ans. Introduction: In the story ‘An Astrologer’s Day’ an astrologer has been narrated in his usual form. Indian astrologers mostly succeed in their business by
their trick and hypocracy. The astrologer’s character has been depicted beautifully and satirically. His character has many shades like the following.

His early life: The astrologer lived in a village. He was a farmer. He was notbvery clever. He was careless. He never felt his responsibility. He drank and gambled.
He had a quarrel with Guru Nayak. He pushed him down the well. He went to the city. He became an astrologer.

As an astrologer : He pretends to be a perfect astrologer. He has learnt the art of astrology. He possessed all the professional equipments. He learnt all the tacts
and tricks of the trade.

His cleverness : He knew nothing about astrology and stars. Yet he was a successful astrologer. He judged the man psychologically. He had practical knowledge of solving the problems regarding marriages and money matters. He rubbed sacred ash on his forehead. He made the man emotional.

A successful family member: The astrologer was quite fit in his family. He had no bad habits in him. He earned his livelihood by becoming a successful astrologer.
He loved his wife. He was an able devoted father. There was a good understanding between husband and wife.

भूमिका-‘An Astrologer’s Day’ कहानी में एक ज्योतिषी को अपने वास्तविक रूप में प्रस्तुत किया गया है। भारतीय ज्योतिषी अधिकांशतः अपनी चालाकी और ढोंग के द्वारा अपने व्यवसाय में सफल
हो जाते हैं। ज्योतिषी का चरित्र सुन्दरता और व्यंगात्मक रूप में चित्रित किया गया है। उसके चरित्र में निम्नांकित विविध रूप है-

उसका प्रारम्भिक जीवन-ज्योतिषी एक गाँव में रहता था। वह एक किसान था। वह बहत चतर नहीं था। वह लापरवाह था। वह कभी अपनी जिम्मेदारी को नहीं समझता था। वह शराब पीता था और जआ खेलता था। उसका गुरु नायक से झगड़ा हो गया। उसने उसे कुएँ में धकेल दिया। वह शहर को
चला गया। वह एक ज्योतिषी बन गया।

एक ज्योतिषी के रूप में-वह एक निपुण ज्योतिषी होने का ोग करता है। उसने ज्योतिष कला सीखली है। उसके पास ज्योतिष व्यवसाय सम्बन्धी सभा सामान था। उसने व्यापार की सभी चालाकी और हथकण्डे सीख लिए थे।

उसकी चालाकी-वह ज्योतिष और नक्षत्र के बारे में कुछ नही जानता था। फिर भी वह एक सफल ज्योतिषी था। यह मनोवैज्ञानिक रूप से व्यक्ति का आकलन करता था। वह शादी सम्बन्धी और धन सम्बन्धी मामलों को हल करने का व्यावहारिक अनुभव रखता था। वह अपने माथे पर पवित्र राख मलता था। वह व्यक्ति को भावुक बना देता था।

एक सफल पारिवारिक सदस्य-ज्योतिषी अपने परिवार में एकदम उपयुक्त था। उसमें कोई बरी आवत नहीं थी। वह एक सफल ज्योतिषी बनकर अपनी आजीविका चलाता था। वह अपनी पत्नी को प्यार करता था। वह एक योग्य और समर्पित पिता था। पति-पत्नी दोनों अच्छी समझ थी।

Q.2. Give an appreciation of the story ‘An Astrologer’s Day.
‘An Astrologer’s Day’ कहानी का मूल्यांकन कीजिए।

Or

Do you appreciate the story ‘An Astrologer’s Day. ? Give your reasons for appreciation.
क्या आप ‘An Astrologer’s Day’ कहानी को पसन्द करते हैं? पसन्द के पक्ष में तर्क दीजिए।

Ans. Introduction : The story ‘An Astrologer’s Day’ is a very interesting story. The writer has narrated the real psychology of an Indian astrologer. The writer has
described an incident in the life of a man who has become an astrologer. The tacts. and tricks adopted by Indian astrologer have been successfully and humorously
presented in this story.

Theme of the story : This story is related to an astrologer who befools the innocent people. The astrologer has a great knowledge of guess work. His guess work is full of tacts and tricks. It shows that the work of an astrologer is based on deception.

Language of the story: The language of the story is very simple and easy. The words used in the story leave their thick effect. The story takes steps lucidly due to
its language.

Style of the story : The style of the story is very effective. The writer has described the real incident. The equipment used by astrologer have been vividly
described by the writer. The writer presents a real picture in the words. The dress of the astrologer presents a true picture of a professional astrologer.

Characters of the story: There is no crowd of characters is the story. There are only two main characters in the story. An astrologer and the stranger cover the
whole story. The readers do not lead astray while recognising its characters.

Title of the story: The title of the story is very suggestive and brief. It attracts the readers. It gives a curiosity in the hearts of the readers.

Conclusion: The story is interesting. Readers read the story curiously. It leaves permanent effect on the minds of the readers.

भूमिका : An Astrologer’s Day’ एक रोचक कहानी है। लेखक ने एक भारतीय ज्योतिषी की दास्तविक मनोदशा का वर्णन किया है। लेखक ने एक व्यक्ति के जीवन की घटना का वर्णन किया है जो एक ज्योतिषी बन गया है। इस कहानी में भारतीय ज्योतिषियों द्वारा अपनाई जाने वाली चालाकी और
हथकण्डों को सफलतापूर्वक और हास्य रूप में प्रस्तुत किया है।

कहानी की विषय वस्तु : कहानी एक ज्योतिषी से सम्बन्धित है जो निर्दोष लोगों को मूर्ख बनाता है। ज्योतिषी को अनुमान कार्य का अच्छा ज्ञान है। उसका अनुमान चालाकी और हथकण्डों से पूर्ण है। यह प्रदर्शित करता है कि एक ज्योतिषी का कार्य धोखे पर आधारित होता है।

कहानी की भाषा : कहानी की भाषा बहुत आसान और सरल है। कहानी में प्रयुक्त शब्द अपना गहरा प्रभाव छोड़ते हैं। कहानी अपनी भाषा के कारण सरल प्रवाह में आगे बढ़ती है।

कहानी की शैली : कहानी की शैली प्रभावपूर्ण है। लेखक ने वास्तविक घटना का वर्णन किया है। लेखक द्वारा ज्योतिषियों द्वारा प्रयुक्त सामान का विस्तार से वर्णन किया है। लेखक शब्दों में वास्तविक तस्वीर प्रस्तुत करता है। ज्योतिषी की पोशाक एक व्यावसायिक ज्योतिषी की वास्तविक तस्वीर प्रस्तुत करतो है।

कहानी के पात्र’: कहानी में पात्रों की भीड़ नहीं है। कहानी में मुख्य पात्र दो हैं। एक ज्योतिषी और अनजान पूरी कहानी को पूरा करते हैं। इसके पात्रों को जानते हए भी पाठक भ्रमित नहीं होते हैं।

कहानी का शीर्षक: कहानी का शीर्षक उपयुक्त और संक्षिप्त है। यह पाठकों को आकर्षित करता है। यह पाठकों के दिल में जिज्ञासा पैदा करता है।

निष्कर्ष : कहानी रोचक है। पाठक जिज्ञासा से कहानी को पढ़ते हैं। यह पाठकों के मस्तिष्क में स्थायी प्रभाव छोड़ती है।

Q. 3. Why did the astrologer give careful instructions to the stranger to do certain things?
कुछ निश्चित कार्य करने के लिए ज्योतिषी ने अजनबी को चेतावनी वाले सुझाव क्यों पिये?

Or

Why did the astrologer advise the stranger never travel southward?
ज्योतिषी ने अजनबी को दक्षिण की ओर कभी यात्रा न करने की सलाह क्यों दी?

Or

The astrologer warned the stranger not to travel southward. Was this a tact to befool the stranger? Give reasons.
.ज्योतिषी ने अपरिचित को दक्षिण की ओर यात्रा न करने की चेतावनी दी। क्या यह अपरिचित को मूर्ख बनाने की चालाकी थी? कारण बताइए।

Or

How did the astrologer get rid of the fear of revenge and punishment for his wrong doing?
ज्योतिषी ने गलत कार्य करने के कारण बदला और दण्ड पाने के भय से किस प्रकार छुटकारा पाया?

Ans. Introduction: The astrologer lived in a village. He did the work of farming. While in his youth, he attacked the stranger named Guru Nayak. He dropped him in the well. He thought him dead. The astrologer came in a town. The stranger also came there in search of his enemy. Both were face to face. The stranger could not recognise the astrologer. But the astrologer recognised him and was afraid of being recognised. .

Stranger’s questions : The stranger put many questions. The astrologer answered them correctly. The stranger was satisfied. The reason was that the astrologer himself was his enerny. Therefore, he answered the questions correctly. The stranger was much impressed. He was confident of him.

Reason of careful instructions: The astrologer gave careful instructions to the stranger that he should not waste his valuble time in search of his enemy because
his enemy had already been crushed under the lorry. The stranger should go back to his house atonce otherwise there was a great danger to his life. The astrologer
suggested the stranger not to stay there because he was afraid of being recognised by the stranger.

Conclusion: The astrologer was very clever. He had a presence of mind. He suspected the danger for his being captured. So he very successfully removed the future source of danger from his path for ever. The story depicts the real picture of Indian astrologers.

भूमिका-एक ज्योतिषी एक गांव में रहता था। वह खेती का कार्य करता था। युवावस्था में उसने अजनबी गुरु नायक पर हमला कर दिया। उसने उसे कुएँ में डाल दिया। उसने उसे मरा हुआ समझ लिया। ज्योतिषी एक शहर में आ गया। अजनबी भी उसकी खोज में उसी शहर में आ गया। दोनों

आमने-सामने थे। अजनबी ज्योतिषी को नहीं पहचान सका। लेकिन ज्योतिषी ने उसे पहचान लिया और पहचान लिए जाने से भयभीत था।

अजनबी के प्रश्न-अजनबी ने कई प्रश्न किए। ज्योतिषी ने उनका सही जवाब दिया। अजनबी सन्तुष्ट हो गया। कारण यह था कि ज्योतिषी स्वयं उसका शत्रु था। इसलिए उसने प्रश्नों के उत्तर सही दिए। अजनबी बहुत प्रभावित हुआ। उसे उस पर विश्वास हो गया।

सावधानी याले सुझावों का कारण-ज्योतिषी ने अजनबी को सावधानी पूर्ण सुझाव दिए कि उसे अपने शत्रु को तलाशने में समय नष्ट नहीं करना चाहिए क्योंकि उसका शत्रु एक लॉरी से कुचलकर मर गया है। अजनबी को तुरन्त अपने घर लोट जाना चाहिए अन्यथा उसके जीवन को खतरा पैदा हो
जाएगा। ज्योतिषी ने अजनबी से तुरन्त वह स्थान छोड़ देने को कहा क्योंकि उसे स्वयं के पहचाने जाने का डर था।

निष्कर्ष-ज्योतिषी बहुत चालाक था। वह मस्तिष्क से कार्य लेता था। उसे अपने पकड़े जाने का शक था। इसलिए उसने बड़ी होशियारी से भविष्य में आने वाले खतरे को टाल दिया। कहानी भारतीय ज्योतिषियों की असली तस्वीर प्रस्तुत करती है।

Q. 4. Give a brief account of the place where the astrologer sat punctually at mid-day.
जिस स्थान पर दोपहर को ज्योतिषी नियमित रूप से बैठता था उसका संक्षिप्त विवरण दीजिए।

Ans. The astrologer’s place, where he sat was under a tamarind tree. The whole day that narrow road remained busy with the moving crowd. All along the way
there were traders and people of other occupations. There were medicine sellers, sellers of stolen hardware and junk, magicians, and an auctioneer. The auctioneer
sold cheap cloth. So, all day he would keep on shouting to attract his customers.

Next to the astrologer there was a ground nut seller. There was no municipal lighting so they sat in the lights of their own. The astrologer did not have his own
light but took advantage of the light coming from the other shops or vendors. In the last evening the place became a criss-cross of light rays and moving shadows.

ज्योतिषी एक इमली के पेड़ के नीचे बैठता था। पूरे दिन वह संकीर्ण गली आने-वालों की भीड़ से व्यस्त रहती थी। पूरे रास्ते में व्यापारी और अन्य व्यवसायों वाले लोग रहते थे। उस गली में दवाई विक्रेता, चोरी के लोहे के सामान के विक्रेता, कबाड़ी, जादूगर और एक नीलामी का सामान बेचने वाला रहता था। नीलामकर्ता सस्ते कपड़े बेचता था। इसलिए सारे दिन ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए वह चिल्लाता रहता था।

ज्योतिषी के बगल में एक मूंगफली विक्रेता था। नगरपालिका की तरफ से बिजली की व्यवस्था नं होने के कारण, वे अपनी-अपनी प्रकाश की व्यवस्था करते थे। ज्योतिषी की स्वयं बिजली की व्यवस्था नहीं थी अपितु वह अन्य दुकानों से आने वाले प्रकाश से अपना काम चलाता था। अथवा फेरी वालों के प्रकाश का लाभ लेता था। पिछली शाम को वह स्थान आड़े-तिरछे भ्रमित करने वाली चलती-फिरती छाया नजर आती थी।

Q.5. Describe the deal which the astrologer had struck with his last client.
ज्योतिषी ने अपने अन्तिम ग्राहक से जो सौदेवाजी की उसका वर्णन करो। ..

Or

How did the astrologer manage to earn a handsome amount from the last client?.
‘ज्योतिषी ने अन्तिम ग्राहक से शानदार मात्रा में धन कमाने की कैसे व्यावस्था की?

Ans. It was last evening. It got dark. The astrologer got a client. He said that he would answer the client at the rate of three pies per question. It was the astrologer’s
last client. The client said that for a wrong answer the astrologer would return him the one pies (one anna) with interest. The astrologer demanded a fees of five
rupees if his answers were satisfactory. On the client’s refusal he reduced the fees to eight annas (half a rupee). The client demanded one rupee from the astrologer
If the latter’s answers were wrong.

Suddenly the astrologer broke the deal and got ready to go home. But the stranger forced him to keep up the deal. Being fully satisfied with the astrologer’s statements the stranger gave him a handful of coins. Having reached his home the astrologer counted the coins. They were less than a rupee. But his wife was happy to have received so many of the coins that night.
पिछली शाम की बात है। अन्धकार हो चुका था। ज्योतिषी के पास एक ग्राहक आया। उसने ग्राहक से कहा कि वह प्रति प्रश्न का उत्तर देने के तीन पाई लेगा। यह ज्योतिषी का अन्तिम ग्राहक था। ग्राहक
ने कहा कि गलत तर वेने पर वह एक आना के हिसाब से उसे वापस लौटाएगा। ज्योतिषी ने संतोषजनक उत्तर देने पर पाँच रुपये की मांग की ग्राहक के मना करने पर फीस घटाकर आठ आना (आधा रुपया) तय की गई। ग्राहक ने कहा कि गलत उत्तर देने पर वह एक रुपया प्रति प्रश्न के हिसाब से वापस ले लेगा।

अचानक ही ज्योतिषी ने सौदा तोड़ दिया और घर जाने के लिए तैयार हो गया। लेकिन ग्राहक ने सौदा को स्वीकृत रखने पर जोर दिया। ज्योतिषी के कथनों से पूरी तरह सन्तुष्ट होने पर ग्राहक ने उसे मुट्टी भरकर सिक्के दिए। अपने घर पहुंच कर ज्योतिषी ने सिक्के गिने । वे एक रुपया से कम थे। लेकिन उराकी पत्नी इतने अधिक सिक्के उस रात पाकर बहुत प्रसन्न थी।

UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES AN ASTROLOGER’S DAY Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES AN ASTROLOGER’S DAY
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 12th Chapter 2 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 12th Chapter 2 Long Questions Answer

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

− 1 = 5

Share via
Copy link
Powered by Social Snap