UP Board Syllabus SHORT STORIES Pen Pal
UP Board Syllabus SHORT STORIES THE SELFISH GIANT
BoardUP Board
Text bookNCERT
Class11th
SubjectEnglish
Chapter4
Chapter name THE SELFISH GIANT
Chapter NumberNumber 1 Summary of the Story
CategoriesSHORT STORIES Class 11th
UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES THE SELFISH GIANT Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES THE SELFISH GIANT
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Long Questions Answer

Summary of the Story

Introduction

Introduction : “The Selfish Giant’ is a very beautiful story. The theme of the story is based on a very simple reality of life, that is the principle of sharing and love for children. There was a Giant who usually was called to be very selfish. He always thought of his own interests. He was the owner of a beautiful garden. He did not allow the children to enter the garden and they were not even allowed to play into his garden. The garden was lovely so the children wished to have their game there.

Giant’s visit to his friend

Giant’s visit to his friend : Giant went to his friend. He lived there for seven vears. After seven years he retured and saw children playing in the garden. He shouted, “My own garden is my own garden.” I will allow nobody to play in it but myself.’ So he built a high wall all around it and a notice board was put there. Trespassers will be prosecuted.” Children ran away from there. They were
unhappy.

Reactions of the nature

Reactions of the nature: The spring came all over the country. But it was still winter in the garden of the selfish Giant. The only people who were pleased to live there were the snow and the frost. The snow covered up the grass. The frost painted all the trees silver. Then they invited the North wind. He roared all day about the garden. They also invited the Hail. He rattled on the roof of the Giant’s castle and ran about the garden. Neither the spring nor the summer, nor the autumn came to
the garden of the selfish Giants.

Sweet music

Sweet music : One morning the Giant was lying awake in his bed when he heard some lovely music. A little linnet was singing outside his window. It seemed to hlm to be the most beautiful music. The north wind ceased roaring. A sweet perfume came to him through the open casement. The Giant believed that spring had come.

A wonderful sight

A wonderful sight: The Giant saw a wonderful sight. The children had crept silently in the garden through a little whole. They were sitting in the branches of the trees. The trees were glad to have children back again. A little boy was standing

in one corner

in one corner. There was still winter. He was so small that he could not reach up to branches of the tree. He was wandering all round it, crying bitterly. The poor tree still covered with the frost and snow. The tree asked the boy to climb up. The tree bent its branches down as low as it could, but the boy was too tiny.

Giant’s heart melted

Giant’s heart melted : The heart of the Giant melted. He came to know why the spring did not come there. He put that little boy on the top of the tree and then he knocked down the wall. He turned his garden into the playground for the children. He opened the front door and went out of the garden. But the children were frightened and ran away. Only the little boy did not run because his eyes were full of tears that he did not see the Giant coming. The Giant took the little boy in his hands and put him up into the tree. The tree broke at once into blossoms and the birds came and sang on it, and the little boy stretched out his two arms and flung
them round the Giant’s neck and kissed him. The other children came running back when they saw that the Giant was not wicked any longer. The spring came with the children. The selfish Giant told them that the garden belonged to them. The Giant knocked down the high walls and he played with the children.

Years went over

Years went over : Many years passed over. The Giant grew very old and weak. He could not play about any more so he sat in a huge arm chair and watched the children at their games and admired his garden. He said, “I have many beautiful flowers but the children are the most beautiful flowers of all.” The Gient stopped
bating the winter. The trees were covered with lovely white blossoms. Its branches were all golden and silver fruits hung down on them. The little boy whom he had loved stood under it. The little boy smiled at the Giant and said to him, “you let me play once in your garden, to day you shall come with me to my garden, which is paradise.” When the children came in the afternoon, they found that the Giant was lying dead under a tree, all covered with white blossoms.

कहानी का सारांश

प्रस्तावना-‘The Selfish Glant’ बहुत सुन्दर कहानी है। कहानी की पृष्ठभूमि जिन्दगी की साधारण सी वास्तविकता पर आधारित है, वह है, बॉटना और बच्चों के प्रति प्रेम का सिद्धान्त । एक दानव था जो आमतौर से बहुत स्वार्थी कहलाता था। वह हमेशा अपने लाभ के बारे में सोचता था। वह एक सुन्दर बगीचे का मालिक था। वह बच्चों को बगीचे में प्रवेश नहीं करने देता था। यहाँ तक कि उन्हें बगीचे में खेलने की भी अनुमति नहीं थी। बगीचा सुन्दर था। अतः बच्चे उसमें खेलने के लिए लालायित रहते थे।

दानव अपने मित्र से मिलने जाता है

दानव अपने मित्र से मिलने जाता है-दानव अपने मित्र के पास गया। वह वहाँ सात वर्ष तक रहा। सात वर्ष बाद वह लौटकर आया और बच्चों को बगीचे में खेलते हुए देखा। वह चिल्लाया, “मेरा बगीचा मेरा अपना है। मैं अपने अलावा किसी को खेलने की अनुमति नहीं दंगा। इसलिए उसने उसके चारों ओर एक ऊंची दीवार बनवा दी और वहाँ एक सूचना पट लगा दिया। प्रवेश करने वालों को दण्डित किया जाएगा। बच्चे वहाँ से भाग गये। वे अप्रसन्न थे।।

प्रकृति का विरोध

प्रकृति का विरोध-पूरे देश में वसन्त ऋतु आई लेकिन स्वार्थी दानव के बगीचे में शीत ऋतु थी। वहाँ केवल बर्फ और बर्फीला तूफान था। धर्फ ने घास को ढक लिया था बर्फीले तूफान ने सभी पेड़ों को चाँवी के रंग में रंग दिया। तब उन्होंने उत्तरी हवा को निमन्त्रण दिया ! उसने पूरे दिन बगीचे में दहाड़ लगाई। उन्होंने ओलों को भी निमन्त्रण दिया। ओले दानव के घर पर जम गये और बगीचे में दौड़ने लगे। स्वार्थी दानव के बगीचे में न तो वसन्त आया, ने गरमी आई और न पतझड़ आया।

मधुर संगीत

मधुर संगीत-एक दिन सुबह दानव अपनी चारपाई पर जागा हुआ लेटा था तब उसने मधुर संगीत सुना। एक गीत गाने वाली छोटी चिड़िया उसकी खिड़की के बाहर गा रही थी। उसे वह संगीत बहुत मधुर प्रतीत हुआ। उत्तरी हवा ने दहाड़ना बन्द कर दिया था। एक मधुर सुगन्ध खुली हुई खिड़की से आई। दानव को विश्वास हुआ कि अन्त में वसन्त आ ही गया।

आश्चर्यजनक दृश्य

आश्चर्यजनक दृश्य-दानव ने एक आश्चर्यजनक दृश्य देखा। बच्चे स्वार्थी दानव के बगीचे में चुपचाप छोटे से छिद्र से होकर घुस गए। वे पेड़ की शाखाओं पर बैठे हुए थे। बच्चों को दुबारा वापस देखकर वृक्ष खुश थे। एक छोटा सा बालक एक कोने में खड़ा था। वहाँ अब भी जाड़ा था। वह इतना छोटा था कि वह पेड़ की शाखाओं तक नहीं पहुंच पा रहा था। वह उसके चारों ओर घूम रहा था! और बुरी तरह रो रहा था। बेचारा पेड़ अभी भी बर्फीले तूफान और बर्फ से ढका हुआ था। पेड़ ने बालक को चढ़ने
के लिये कहा। पेड़ ने अपनी शाखाओं को इतना झुका दिया जितना वह झुका सकता था। लेकिन बालक बहुत छोटा था।

दानव का दिल पिघल गया

दानव का दिल पिघल गया-दानव का दिल पिघल गया। उसे पता चल गया कि वहाँ वसन्त क्यों नहीं आया। उसने बालक को पेड़ की चोटी पर बैठा दिया और तब दीवार को गिरा दिया। उसने बगीचे को बच्चों के खेल के मैदान में परिवर्तित कर दिया। उसने मुख्य दरवाजा खोल दिया और बगीचे से बाहर चला गया। लेकिन बच्चे भयभीत थे और भाग गए। केवल छोटा बालक नहीं भागा क्योंकि उसकी आँखों में आंसू थे जिससे वह दानव को आता हुआ न देख सका। दानव ने बालक को अपने हाथों में लिया और पेड़ के ऊपर बैठा दिया। पेड़ पर तुरन्त ही फूल खिल गए और चिड़ियाँ आ गई और गाना गाने लगी और बालक ने अपनी दोनों बाहें फैलाई और दानव की गर्दन के चारों ओर डाल दी और उसे चूम लिया। दूसरे बच्चे भी दौड़कर वापस आ गए जब उन्होंने देखा कि दानव अब क्रूर नहीं था। दानव ने उनसे कहा कि बगीचा उनका था। दानव ने ऊँची दीवारों को गिरा दिया और बच्चों के साथ खेला।

वर्ष बीत गए

वर्ष बीत गए-कई साल बीत गए। दानव बहुत बूढ़ा और कमजोर हो गया। वह अब खेल नहीं सकता था इसलिए वह एक बड़ी आराम कुर्सी पर बैठा रहता और बच्चों को खेलते हुए देखता रहता और अपने बगीचे की प्रशंसा करता था। उसने कहा, “मेरे बहुत से सुन्दर फूल हैं लेकिन उनमें बच्चे सबसे अधिक सुन्दर फूल हैं दानव ने शीतऋतु से घृणा करना बन्द कर दिया। पेड़ सफेद फूलों से ढके हुए थे। उसकी सभी शाखाएँ सुनहरी थी और उन पर चाँदी के फल लटक रहे थे। छोटा बालक जिसे वह प्यार करता था उस पेड़ के नीचे खड़ा था । छोटा बालक दानव की ओर मुस्कराया और उससे कहा, ‘तुम मुझे एक बार अपने बगीचे में खेलने दो, आज तुम मेरे साथ मेरे बगीचे में आओ, जो स्वर्ग है। जब दोपहर में बच्चे आए तो उन्होंने देखा कि दानव पेड़ के नीचे मरा पड़ा था और सफेद फूलों से पूरा ढका. था।

UP BOARD SYLLABLES SHORT STORIES THE SELFISH GIANT Chapter List
NumberChapter
1UP Board Syllabus SHORT STORIES THE SELFISH GIANT
2UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Short Questions Answer
3UP Board Syllabus SHORT STORIES 11th Chapter 4 Long Questions Answer

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

58 − 50 =

Share via
Copy link
Powered by Social Snap