Class 12 Samanya Hindi

Class 12 Samanya Hindi “सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र”

UP Board Master for Class 12 Samanya Hindi सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र are part of UP Board Master for Class 12 Samanya Hindi. Here we have given UP Board Master for Class 12 Samanya Hindi सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र.

BoardUP Board
TextbookNCERT
ClassClass 12
SubjectSamanya Hindi
Chapter Name“सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र”
Number of Questions14
CategoryClass 12 Samanya Hindi

UP Board Master for Class 12 Samanya Hindi “सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र”

सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र

प्रश्न 1.
अपने क्षेत्र में मच्छरों के प्रकोप का वर्णन करते हुए उचित कार्यवाही के लिए स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखिए।
या
अपने क्षेत्र में मलेरिया फैलने की सम्भावना को देखते हुए स्वास्थ्य अधिकारी को एक पत्र लिखिए।
या
अपने मुहल्ले में वर्षा के कारण उत्पन्न हुई जल-भराव की समस्या की ओर ध्यान आकृष्ट कराने के लिए नगरपालिका अधिकारी/जिलाधिकारी को पत्र लिखिए।
या
नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी को अपने मुहल्ले में विद्यमान गन्दगी के विषय में एक पत्र लिखिए।
या
नगर की स्वच्छता हेतु नगरपालिका अध्यक्ष को आवेदन देते हुए उनका ध्यान गन्दगी से होने वाली बीमारियों की ओर आकृष्ट कीजिए।
या
ग्राम प्रधान की ओर से अपने जनपद के जिलाधिकारी को एक पत्र लिखिए, जिसमें गाँव की सफाई व्यवस्था हेतु अनुरोध किया गया हो।
या
अपने ग्राम प्रधान को एक पत्र लिखकर गाँव की सफाई हेतु अनुरोध कीजिए।
या
अपने नगर में बाढ़ एवं घनघोर वर्षा के बाद गन्दगी के कारण फैलने वाले संक्रामक रोगों की आशंका को दृष्टिगत करते हुए रोकथाम के उपायों हेतु जिलाधिकारी को एक पत्र लिखिए।
या
अपने क्षेत्र में प्रदूषण से उत्पन्न स्थिति का वर्णन करते हुए किसी दैनिक समाचार-पत्र के सम्पादक को एक पत्र लिखिए।
या
अपने मुहल्ले में फैली गन्दगी की सफाई कराने हेतु नगरपालिका अध्यक्ष को एक शिकायती पत्र लिखिए।
या
बरसात में बढ़ रहे संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिए अपने नगर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
स्वास्थ्य अधिकारी,
…………….. नगर निगम।
………………… नगर।

विषय-मच्छरों का बढ़ता हुआ प्रकोप

महोदय,
मैं आपका ध्यान बढ़ते हुए मच्छरों के प्रकोप की ओर आकर्षित करना चाहता हूँ। मैं सुभाष नगर क्षेत्र का निवासी हूँ। पूरे सुभाष नगर क्षेत्र में आजकल मच्छरों का भयंकर आतंक छाया हुआ है। दिन हो यो रात, मच्छरों के झुंड सदा घूमते नज़र आ जाते हैं। रात को तो वे सोना दूभर कर देते हैं। जब सुबह उठते हैं। तो बच्चों के मुंह लाल-लाल दानों से भरे होते हैं। मच्छरों के कारण घर-घर में मलेरिया फैला हुआ है। प्रायः सभी घरों में कोई-न-कोई मलेरिया का रोगी मिल जाएगा। इन मच्छरों के कारण स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ा है।

हमारे क्षेत्र में मच्छरों की अधिकता का बड़ा कारण है–पानी के जमे हुए तालाब और गली-मुहल्लों में फैली चौड़ी-चौड़ी खुली नालियाँ। उन कच्ची नालियों को व्यवस्थित करने की कोई व्यवस्था नहीं हुई है। मुहल्ले के जमादार सफाई की ओर ध्यान नहीं देते, इसलिए नालियों में सदा मल जमा पड़ा रहता है। लोग अपने घरों के गन्दे जल को बाहर यूं ही बिखरा देते हैं, जिससे मार्गों के गड्ढे भर जाते हैं। हमने कई बार निवेदन किया है कि हमारे क्षेत्र के तालाब को भरवा दिया जाए, जिससे मच्छरों का मुख्य अड्डा समाप्त हो जाए, किन्तु इस ओर कभी ध्यान नहीं दिया गया।

इस बार अत्यधिक वर्षा के कारण जगह-जगह जल का जमाव हो गया है। सभी जगह कीचड़, मल और बदबूदार जल का प्रकोप है। अत: मैं पुनः सुभाष नगर के निवासियों की ओर से आपसे अनुरोध करता हूँ कि मच्छरों को समाप्त करने के लिए सार्वजनिक रूप से क्षेत्र में मच्छरनाशक दवाई छिड़कवाने की व्यवस्था की जाए। मलेरिया से बचने के लिए कुनीन बाँटने तथा पूरे क्षेत्र की सफाई के व्यापक प्रबन्ध किये जाएँ। आशा है आप शीघ्र कार्यवाही करेंगे।
धन्यवाद सहित।

भवदीय
क ख ग
मंत्री, मुहल्ला सुधार समिति
……………………. सुभाष नगर।

दिनांक : 19 जुलाई, 2017

प्रश्न 2.
दिल्ली नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी को एक पत्र लिखकर उनसे अपने मुहल्ले की सफाई कराने का अनुरोध कीजिए।
या
अपने क्षेत्र की गन्दगी की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए स्वास्थ्य अधिकारी/ उपजिलाधिकारी को एक पत्र लिखिए।
या
अपने गली-मुहल्ले की नालियों की समुचित सफाई के लिए नगरपालिका के अध्यक्ष को एक पत्र लिखिए।
या
नगर की सफाई हेतु नगरपालिका को एक पत्र लिखिए।
या
अपने घर के आस-पास फैली गन्दगी के कारण संक्रामक रोग फैलने की आशा व्यक्त करते हुए उप-जिलाधिकारी को सम्बोधित कर एक शिकायती-पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
स्वास्थ्य अधिकारी,
दिल्ली नगर निगम, दिल्ली।

विषय-मुहल्ले की सफाई कराने हेतु प्रार्थना-पत्र

श्रीमान,
हम आपका ध्यान मुहल्ले की सफाई सम्बन्धी दुरवस्था की ओर खींचना चाहते हैं। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हमारे मुहल्ले की सफाई हेतु नगर निगम का कोई सफाई-कर्मचारी गत दस दिनों से काम पर नहीं आ रहा है। घरों की सफाई करने वाले कर्मचारियों ने भी मुहल्ले में स्थान-स्थान पर गन्दगी और कूड़े-कर्कट के ढेर लगा दिये हैं। इसका कारण सम्भवत: यह भी है कि आसपास कूड़ा-करकट तथा गन्दगी डालने के लिए कोई निश्चित स्थान नहीं है।

आज स्थिति यह है कि मुहल्ले का वातावरण अत्यन्त दूषित तथा दुर्गन्धमय हो गया है। मुहल्ले से गुजरते हुए नाक बन्द कर लेनी पड़ती है। चारों ओर मक्खियों की भिनभिनाहट है। रोगों के कीटाणु प्रतिदिन बढ़ रहे हैं। नालियों की सफाई न होने के कारण मच्छरों का प्रकोप इस सीमा तक बढ़ गया है कि दिन का चैन और रात की नींद हराम हो गयी है।

वर्षा पाँच-सात दिनों में प्रारम्भ होनी सम्भावित है। यथासमय मुहल्ले की सफाई न होने पर मुहल्ले की दुरवस्था का अनुमान लगाना कठिन है। अतः आपसे हम मुहल्ले वालों का निवेदन है कि आप यथाशीघ्र मुहल्ले का निरीक्षण करें तथा सफाई का नियमित प्रबन्ध करवाएँ, अन्यथा मुहल्ला निवासियों के स्वास्थ्य पर उसका कुप्रभाव पड़ने की आशंका है।
आपकी ओर से उचित कार्यवाही के लिए हम प्रतीक्षारत हैं।
दिनांक : 5 जून, 2014

प्रार्थी
………………… नगर
ब्लॉक-डी के निवासी।

प्रश्न 3.
आपके नगर में प्रदूषित पानी पीने से दस्त व हैजे के रोगी बढ़ रहे हैं। नगरपालिका के स्वास्थ्य अधिकारी को पत्र लिखकर स्थिति से अवगत कराएँ।
उत्तर
सेवा में,
स्वास्थ्य अधिकारी,
कटनी नगरपालिका,
कटनी।

विषय-प्रदूषित पानी से महामारी की आशंका

महोदय,
पिछले कुछ समय से हमारे क्षेत्र में पीने का शुद्ध पानी नहीं आ रहा है। पानी का स्वाद भी कुछ बदला हुआ-सा है। इस पानी को पीने से लोगों को कई तरह के रोगों का सामना करना पड़ रहा है तथा दस्त व हैजे की आम शिकायत बनी हुई है। पानी को ध्यान से देखने पर पता चलता है कि इसका रंग कुछ मटमैला-सा है। हमारे क्षेत्र से एक सीवरेज पाइप भी गुज़रती है। इस बात की सम्भावना है कि पानी की पाइप में सीवरेज का गन्दा पानी मिल रहा हो। लोगों को पीने के पानी के लिए इसी पाइप लाइन का सहारा लेना पड़ता है। अगर इसी तरह प्रदूषित जल की आपूर्ति होती रही तो किसी महामारी की समस्या खड़ी हो सकती है। बीमारों की निरन्तर बढ़ती संख्या चिन्ता का कारण है। आपसे अनुरोध है कि हमारे क्षेत्र की पानी के पाइप लाइन की जाँच करवाएँ तथा. उसे अति शीघ्र ठीक करवाएँ।।

आशा है, आप हमारी समस्या को गम्भीरता से लेंगे।
धन्यवाद !
दिनांक : 10 जून, 2014

भवदीय
असलम, रहीम, रहमान,
कादिर, मनीष, कल्पना

प्रश्न 4.
अपने क्षेत्र में व्याप्त गन्दगी के कारण उत्पन्न डेंगू व मलेरिया जैसी भयंकर बीमारियों की जानकारी किसी दैनिक पत्र के सम्पादक को देते हुए पत्र लिखिए।
या
स्वास्थ्य विभाग द्वारा आपके क्षेत्र की गन्दगी की ओर कोई ध्यान न दिये जाने पर किसी दैनिक पत्र के सम्पादक को पत्र लिखिए।
उत्तर

राकेश शुक्ला
प्रधान
‘मेरा मेरठ : स्वच्छ मेरठ
जागृति विहार, मेरठ
दिनांक : 19 सितम्बर, 2017

श्रीमान सम्पादक महोदय,
दैनिक जागरण,
मोहकमपुर, दिल्ली रोड
मेरठ-250 002

विषय-क्षेत्र की गन्दगी से उत्पन्न समस्याओं तथा स्वास्थ्य विभाग की उपेक्षा के सम्बन्ध में

महोदय,
आपके लोकप्रिय समाचार-पत्र के माध्यम से मैं मेरठ प्रशासन तथा उसके वरिष्ठ अधिकारियों का ध्यान मेरठ के नगरीय क्षेत्र मलियाना, कासमपुर, तारापुरी, ब्रह्मपुरी में व्याप्त गन्दगी तथा इसके दुष्प्रभाव की ओर आकृष्ट करना चाहता हूँ। आपसे अनुरोध है कि मेरे इस पत्र को ‘जनवाणी’ शीर्षक स्तम्भ में प्रकाशित करने का कष्ट करें। ये सभी ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ मध्यम तथा निम्न आय वर्ग एवं गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोग रहते हैं। ये चारों ही क्षेत्र प्रत्येक स्तर पर उपेक्षित रहे हैं। इस बार वर्षा की अधिकता के कारण इन क्षेत्रों में स्थान-स्थान पर पानी भर गया है तथा इनके पास बहने वाला नाला भी पानी से भर गया है। पानी के इस भराव के कारण चारों ओर गन्दगी तथा दुर्गन्ध व्याप्त हो गयी है तथा मच्छरों के पनपने के कारण मलेरिया और डेंगू फैल रहा है। आये दिन इन रोगों से ग्रस्त रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है। खेद का विषय है कि अधिकारियों का ध्यान इस ओर आकृष्ट कराये जाने पर भी उनकी ओर से इस समस्या के समाधान के लिए गम्भीरतापूर्वक कोई प्रयास नहीं किये गये। प्रशासन की इस उपेक्षा के कारण इन क्षेत्रों में रहने वाले निवासियों को अपने स्वास्थ्य को लेकर चिन्तित होना स्वाभाविक है।

अपनी संस्था की ओर से मेरा नगर के उच्च पदाधिकारियों तथा नगर निगम के वरिष्ठ अधिकारियों से आग्रह है कि इससे पूर्व कि स्थिति अत्यन्त भयावह होकर अनियन्त्रित हो जाए, इस समस्या को अत्यन्त गम्भीरता से लेते हुए तत्काल इसके समाधान के लिए आवश्यक कदम उठाये जाएँ।
सधन्यवाद!
दिनांक : ……………..

भवदीय
राकेश शुक्ला

प्रश्न 5.
शुल्क मुक्ति हेतु अपने विद्यालय के प्रधानाचार्य को एक आवेदन-पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
श्रीयुत् प्रधानाचार्य,
जवाहर पब्लिक स्कूल,
जनकपुरी, दिल्ली-18
मान्यवर महोदय,
सविनय निवेदन यह है कि मैं आपके विद्यालय की कक्षा 12 (B) का विद्यार्थी हूँ। मेरे पिताजी अपने छोटे से व्यवसाय द्वारा बड़ी कठिनाई से परिवार का पालन-पोषण करते हैं। कमरतोड़ महँगाई के कारण काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। घर में प्राय: आवश्यक वस्तुओं का अभाव रहता है। मेरे 4 भाई-बहन विभिन्न स्कूलों में पढ़ रहे हैं, उनकी पढ़ाई-लिखाई आदि के खर्चे का मानसिक बोझ पिताजी के सिर पर सदा रहता है।

मैं अपनी कक्षा का परिश्रमी छात्र हूँ और कक्षा में सदा प्रथम स्थान प्राप्त करता रहा हूँ। खेलकूद में भी मेरी अच्छी रुचि है। मैं सीनयर ग्रुप फुटबॉल का कप्तान भी हूँ।
अतः आपसे निवेदन है कि मुझे विद्यालय शुल्क से पूर्ण मुक्ति प्रदान करें, जिससे मैं अध्ययनरत रहकर अपने भविष्य को सँवार सकें। मेरे अभिभावक आपके अत्यन्त आभारी रहेंगे।

आपका आज्ञाकारी शिष्य
सतीश शर्मा
कक्षा-12 (B)

दिनांक : …………………….

प्रश्न 6.
बिजली-समस्या के निराकरण हेतु अपने जिले के बिजली विभाग को एक शिकायती पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
बिजली विभाग,
मेरठ।

विषय-बिजली की अनियमित आपूर्ति

मान्यवर,
हम ‘जैन नगर कालोनी के निवासी आपका ध्यान बिजली समस्या की ओर आकर्षित कराना चाहते हैं। पानी तथा अन्य कार्यों के लिए बिजली की सर्वाधिक आवश्यकता ग्रीष्म काल में ही होती है और हम सब अप्रैल के प्रारम्भ से ही अनुभव कर रहे हैं कि भरपूर गर्मी प्रारम्भ होने से पूर्व ही बिजली की आपूर्ति कम हो गई है। बिजली जीवन की मूलभूत आवश्यकता है। कोई भी लोकप्रिय सरकार इसकी उपेक्षा नहीं करती।

हमारी कालोनी में बिजली आपूर्ति प्रारम्भ और बन्द होने का कोई समय भी निर्धारित नहीं है। हमारी कालोनी से एक प्रतिनिधि मण्डल इस सम्बन्ध में बिजली आपूर्ति अधिकारी से भी मिला था और उन्होंने एक सप्ताह में बिजली आपूर्ति बढ़ाने का वचन दिया था। खेद है कि आज तीन सप्ताह व्यतीत हो जाने पर भी कोई कार्यवाही इस सम्बन्ध में नहीं हुई है।

इस स्थिति में आपसे हमारा निवेदन है कि कृपया हमारी समस्या की ओर ध्यान दें और इसका शीघ्र समाधान करायें। यदि बिजली-आपूर्ति तुरन्त बढ़ाना सम्भव नहीं हो तो कम से कम उसका समय तो निर्धारित किया जा सकता है।
शीघ्र कार्यवाही की आशा में।

हम हैं आपके जैन नगर निवासी

(1) ……………….
(2) ……………….
(3) ……………….
(4) ……………….

दिनांक : …………..

प्रश्न 7.
किसी समाचार-पत्र के सम्पादक को अपने मुहल्ले में लाउडस्पीकर के कारण पढ़ाई में आने | वाले व्यवधान की ओर अधिकारियों का ध्यान आकर्षित करते हुए पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
सम्पादक महोदय,
दैनिक जागरण, मेरठ।

विषय-परीक्षा के समय लाउडस्पीकर आदि पर रोक

मान्यवर,
निवेदन यह है कि प्रायः सभी विद्यालयों, महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों की परीक्षाओं का आयोजन मार्च और अप्रैल माह में होता है। विद्यार्थी अपने भविष्य को दाँव पर लगाने के लिए बड़ी लगन वे उत्साह से अध्ययनरत रहते हैं। थोड़ी-सी अशान्ति और शोरगुल से वे अधीर और आतुर हो उठते हैं। परीक्षा की तैयारी के समय वे एकान्त, शान्त व एकाग्रचित रहना चाहते हैं।

देखा गया है कि उक्त दोनों महीनों में वातावरण बड़ा अस्थिर व अशान्त रहता है। विवाह-लग्नों की धूम के कारण लाउडस्पीकर और वाद्य-यन्त्रों का शोर मच जाता है। बैण्ड-बाजों की कर्कश ध्वनि मानो पागल-सा बना देती है। विद्यार्थी अपना सिर थाम लेते हैं। फलस्वरूप झगड़े और फसाद खड़े हो जाते हैं।

इस वर्ष भी मार्च और अप्रैल महीनों में बहुत शादियाँ हैं। अत: प्रशासन को शीर्घ सतर्क और सावधान होकर लाउडस्पीकर और वाद्ययन्त्रों पर प्रतिबन्ध लगा देना चाहिए, अन्यथा गत वर्ष की तरह हिंसा की वारदातें पुनर्जीवित हो सकती हैं।

जिला प्रशासन से हमारा अनुरोध है कि परीक्षा की इन अमूल्य घड़ियों में शोरगुल व बैण्ड-बाजों की कर्कश कटु ध्वनि पर प्रतिबन्ध लगा दें और विवाह-लग्न के अवसर पर धीमा संगीत रखने के आदेश जारी किये जाएँ।

मोहन लाल गुप्त
अध्यक्ष,
भारतीय विद्यार्थी परिषद्
मेरठ।

दिनांक : ………….

प्रश्न 8.
छात्रवृत्ति प्राप्त करने हेतु अपने विद्यालय के प्रधानाचार्य को एक आवेदन-पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
श्रीमान प्रधानाचार्य,
आदर्श माध्यमिक विद्यालय
सिद्धार्थ नगर, झाँसी।

विषय-छात्रवृत्ति प्राप्त करने के लिए प्रार्थना-पत्र

मान्यवर,
सविनय निवेदन यह है कि मैं बारहवीं कक्षा का छात्र हूँ। मैं सदा विद्यालय में अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण होता रहा हूँ। पिछले कई वर्षों से मैं लगातार प्रथम आ रहा हूँ। इसके अलावा मैं भाषण-प्रतियोगिताओं, वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में कई बार विद्यालय के लिए जोनल एवं राष्ट्रीय स्तर पर इनाम जीतकर लाया हूँ। खेल-कूद में भी मेरी गहन रुचि है। मैं स्कूल की कबड्डी टीम का कप्तान भी हूँ। सभी अध्यापक मेरी प्रशंसा करते हैं।

अत्यन्त दु:ख के साथ आपको बताना पड़ रहा है कि पिताजी को एक असाध्य रोग ने आ घेरा है। जिसके कारण घर की आर्थिक दशा डगमगा गई है। पिताजी स्कूल से मेरा नाम कटवाना चाहते हैं। वे मेरा मासिक-शुल्क देने में असमर्थ हैं। मैंने अपनी पाठ्य-पुस्तकें तो जैसे-तैसे खरीद ली हैं, लेकिन शेष व्यय के लिए आपसे नम्र निवेदन है कि मुझे तीन सौ रुपये मासिक की छात्रवृत्ति देने की कृपा करें, ताकि मैं अपनी पढ़ाई सूचारु रूप से चला सकें। यह छात्रवृत्ति आपकी मेरे प्रति विशेष कृपा होगी। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि मैं खूब मेहनत से पढ़ेगा और इस स्कूल का नाम रोशन करूंगा।

आपका आज्ञाकारी शिष्य
हस्ताक्षर

दिनांक :…………………
कक्षा-12
रोल नं०-20

प्रश्न 9.
अपने विद्यालय में कम्प्यूटरों के अभाव की ओर विद्यालय के प्रधानाचार्य का ध्यान आकृष्ट कराते हुए कम्प्यूटर की पूर्ति हेतु उन्हें एक प्रार्थना-पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
श्रीमान प्रधानाचार्य,
रा०उ०मा० बाल विद्यालय,
बेगमपुल, मेरठ।

विषय-कम्प्यूटर पूर्ति की व्यवस्था हेतु प्रार्थना-पत्र

महोदय,
सविनय निवेदन है कि हम बाहरवीं कक्षा के छात्र यह अनुभव करते हैं कि आज के कम्प्यूटर युग में प्रत्येक व्यक्ति को कम्प्यूटर की जानकारी होनी चाहिए। क्योंकि दिनोंदिन कम्प्यूटर शिक्षा की माँग बढ़ती जा रही है। ऐसे में हमारे उज्ज्वल भविष्य के लिए भी कम्प्यूटर को ज्ञान होना अपरिहार्य है। हालाँकि, विद्यालय में कम्प्यूटर विषय बढ़ाया जाता है और प्रयोगशाला कम्प्यूटर भी उपलब्ध है। लेकिन कम्प्यूटरों की संख्या सीमित होने के कारण हम छात्र निरन्तर अभ्यास नहीं कर पाते हैं। कभी-कभी तो अभ्यास किए बिना दो-दो हफ्ते बीत जाते हैं जिस कारण कक्षा में पढ़ाया गया अध्याय हम भली-भाँति नहीं समझ पाते हैं।

अतः आपसे प्रार्थाना है कि विद्यालय की प्रयोगशाला में कम्प्यूटरों की संख्या को पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करवाने की कृपा करें। हम आपके प्रति कृतज्ञ होंगे। आशा है, आप हमारे अनुरोध को स्वीकार करेंगे।
धन्यवाद!

प्रार्थी
क.ख.ग.
कक्षा-बारह ‘सी’।

दिनांक …………

प्रश्न 10.
पेयजल अधिकारी को पत्र लिखिए, जिसमें अनिवार्य रूप से जल प्राप्त होने की शिकायत की गई हो।
या
पानी की समस्या का निराकरण के लिए नगरपालिका के अध्यक्ष को एक आवेदन पत्र लिखिए।
या
अपने नगर में युद्ध पेयजल आपूर्ति कराने हेतु जल स्थान के प्रबन्धक को पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
श्रीमान निदेशक,
मेरठ जल बोर्ड,
मेरठ।

विषय-पेयजल अधिकारी को जलापूर्ति हेतु प्रार्थना-पत्र

संजय नगर,
पांडव नगर
10 मई, 2016

महोदय,
मैं आपका ध्यान संजय नगर, पांडव नगर, मेरठ में पेयजल की अनियमित जल-आपूर्ति की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। इस क्षेत्र में प्रात: केवल 35 मिनट ही नलों में पानी आता है। पानी का दबाव बहुत कम होता है, मोटर का प्रयोग करने पर भी ऊपर की मन्जिलों में पानी चढ़ नहीं पाता। सायंकाल भी पेयजल की आपूर्ति अनियमित है। कई बार शाम को दो-दो दिन पानी की आपूर्ति नहीं होती। पानी की इस अनियमित आपूर्ति से क्षेत्र के नागरिकों में रोष है। इससे पूर्व भी अनेक बार स्थानीय अधिकारियों को मैं इस समस्या से अवगत करा चुका हूँ, परन्तु स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है।

अतः आपसे प्रार्थना है कि इस क्षेत्र में पेयजल की समुचित व्यवस्था कराने हेतु उचित कदम उठाने की कृपा करें।
मैं और मेरा पूरा क्षेत्र सदैव आपके आभारी रहेंगे।
धन्यवाद!

भवदीय
हस्ताक्षर ……………
संजय नगर, पांडव नगर

प्रश्न 11.
अपने नगर की सार्वजनिक भूमि पर हुए अवैध कब्जे को हटाने के लिए नगरपालिका अध्यक्ष को एक शिकायती पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
नगरपालिका अध्यक्ष,
मेरठ।

विषय–अवैध कब्जे को हटाना।

मान्यवर,
हम ‘लोहिया नगर कॉलोनी के निवासी आपका ध्यान कॉलोनी और उसके आसपास हो रहे अवैध कब्जों की तरफ आकर्षित कराना चाहते हैं। यहाँ सावर्जनिक भूमि पर कुछ शरारती तत्वों ने कब्जा कर लिया है और वो वहाँ पर गैर-कानूनी कार्यों को बढ़ावा दे रहे हैं। इन गैर-कानूनी कार्यों में जुआ, नशाखोरी, शराब का अवैध व्यापार और कुछ हद तक वैश्यावृत्ति भी शामिल हैं। इन शरारती तत्त्वों और इनके द्वारा किए जा रहे कार्यों के कारण कालोनी की शान्ति और सुरक्षा पर प्रश्नचिह्न लगने लगा है। आए दिन यहाँ पर लड़ाई-झगड़ा, मारपीट व कॉलोनीवासियों के साथ गाली-गलौज की स्थिति उत्पन्न होती रहती है। इस कारण बच्चों और महिलाओं का घर से निकलना मुश्किल होता जा रहा है। इन शरारती तत्वों को कुछ राजनीतिक संरक्षण मिला होने के कारण हममें से कोई भी इनके खिलाफ ज्यादा नहीं बोल पाते हैं। अत: आपसे हमारा निवेदन है कि हमारी समस्या पर ध्यान देते हुए इसका अतिशीघ्र समाधान कराएँ।
शीघ्र कार्यवाही की आशा में
दिनांक : …………..

समस्त लोहिया नगर निवासी
(1) ……………….
(2) ……………….
(3) ……………….
(4) ……………….
(5) ……………….

प्रश्न 12.
प्राथमिक स्वास्थ्य-केन्द्र पर संक्रामक बीमारियों की रोक-थाम के लिए समुचित दवाइयों की उपलब्यता हेतु जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी को एक पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
मुख्य चिकित्साधिकारी,
मेरठ।

विषय-प्राथमिक स्वास्थ्य-केन्द्र पर संक्रामक बीमारियों की दवाइयों को अभाव

महोदय,
मैं आपका ध्यान क्षेत्र के प्राथमिक स्वास्थ्य-केन्द्र पर संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए इस्तेमाल की जाने वाली जरूरी दवाइयों की कमी की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। पूरे क्षेत्र में हैजा, डेंगू ज्वर, मलेरिया, टी०बी० (क्षय रोग) तथा पीत ज्वर जैसे संक्रामक रोग अपने चरम-बिन्दु पर हैं। इस कारण प्राथमिक स्वास्थ्य-केन्द्र पर पीड़ितों की संख्या निरन्तर बढ़ रही है। लेकिन आवश्यक दवाइयों के अभाव में डॉक्टर उचित इलाज नहीं कर पा रहे हैं। वहीं, डॉक्टरों द्वारा पीड़ितों को इलाज हेतु बाहर से लिखी जा रही दवाइयाँ इतने ऊँचे मूल्य पर मिल रही हैं जो आम जन की पहुँच से बाहर है। इस कारण पीड़ितों की संख्या में कमी नहीं आ पा रही है।

अतः आपसे अनुरोध है कि इस मामले को संज्ञान में लेते हुए यथाशीघ्र समुचित दवाइयों को उपलब्ध कराने का कष्ट करें ताकि पीड़ितों को जरूरी इलाज समय पर मिल सके और समय रहते स्वास्थ्य लाभ ले सकें।
धन्यवाद सहित।
दिनांक : …………..

भवदीय
मदनगोपाल
खैरनगर, मेरठ

प्रश्न 13.
नेपाल-भूकम्प पीड़ितों की सहायतार्थ अपने गाँव द्वारा संचित धनराशि को यथात्यान पहुँचाने हेतु अपने जिलाधिकारी को एक पत्र लिखिए। 
या
उज्जैन में बाढ़ पीड़ितों की सहायतार्थ अपने ग्राम द्वारा संचित धनराशि को पहुँचाने हेतु जिलाधिकारी को एक पत्र लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
श्रीमान जिलाधिकारी महोदय,
मेरठ।।

विषय-भूकम्प पीड़ितों की सहायता हेतु धनराशि का संचय

मान्यवर,
मैं आपको ध्यान विगत माह हमारे पड़ोसी देश नेपाल में आए विनाशकारी भूकम्प की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। इस विनाशकारी भूकम्प में नेपाल को अत्यधिक जान-माल का नुकसान उठाना पड़ा है। एक ओर जहाँ इसके कारण हजारों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी, वहीं दूसरी ओर इसने लाखों लोगों को बेघर कर दिया। इस आपदा के कारण नेपाल की आर्थिक स्थिति डॉवाँडोल हो गई है। साथ-ही, कुछ ऐतिहासिक इमारतों सहित बहुत-से पर्यटन स्थल भी तहस-नहस हो गए हैं। पीड़ितों को देनिक जरूरतों के सामान के साथ खाने-पीने की चीजों की कमी का भी सामना करना पड़ रहा है। इस भयावह आपदा ने मुझे और मेरे पूरे गाँववासियों (लावड़) को झकझोर दिया। इस हादसे के पीड़ित लोगो को मानवीय सहायता के तौर पर समस्त गाँववासियों ने जितना सम्भव हो सका उतनी दैनिक जरूरतों का सामान, कपड़े व दवाइयों के साथ ₹50,000/- का इंतजाम किया है।

अतः आपसे अनुरोध है कि इस सहायता राशि और सामान को स्वीकार कर नेपाल पहुँचाने का यथाशीघ्र प्रबन्ध करें। आपदा की घड़ी से निकलने व पुन:निर्माण के क्रम में हम सम्पूर्ण देश सहित समस्त गाँववासी नेपाल के साथ हैं।

धन्यवाद सहित।
दिनांक ……………….

भावदीय
समस्त ग्रामवासी

प्रश्न 14.
अपने गाँव में सूखा पीडित राहत योजना के अन्तर्गत किसानों को भुगतान में की जा रही अनियमितताओं के सम्बन्ध में एक शिकायती पत्र अपने जिलाधिकारी को लिखिए।
उत्तर
सेवा में,
श्रीमान जिलाधिकारी महोदय,
मेरठ।

विषय-सूखा पीड़ित राहत योजना’ के अन्तर्गत भुगतान में की जा रही अनियमितता

मान्यवर,
मैं आपका ध्यान अपने गाँव चौबला में ‘सूखा पीड़ित राहत योजना के अन्तर्गत किसानों को भुगतान में की जा रही अनियमितताओं की ओर आकर्षित कराना चाहता हूँ। फसली वर्ष 2014-15 में पर्याप्त बारिश न होने तथा नहर द्वारा समय पर पानी न उपलब्ध हो पाने के कारण गाँव की करीब अस्सी फीसदी फसल सूखे की चपेट में आ गई थी। कुछ किसानों की तो सौ फीसदी फसल नष्ट हो गई थी। सूखे की चपेट में आने के कारण किसानों के सामने आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया था। हालाँकि, राज्य सरकार द्वारा समय रहते शुरू की गई ‘सूखा पीड़ित राहत योजना’ ने किसानों को एक नई आशा की किरण दिखाई और मायूस चेहरों पर मुस्कान लाने का कार्य किया, परन्तु यह मुस्कान खिलने से पहले ही मुरझाने लगी। किसानों को इस योजना के नाम पर जो धनराशि चैक प्रदान किए गए वो अधिकांश किसानों का मजाक उड़ा रहे हैं। धनराशि के वितरण में बड़े स्तर पर अनियमितता बरती गई। उदाहरणार्थ, एक किसान जिसकी बीस बीघा फसल पूर्ण रूप से सूखे की चपेट में आ गई, उसे मात्र ₹5,000/- को चैक प्रदान किया गया, वहीं दूसरे किसान, जिसकी मात्र पाँच बीघा फसल बरबाद हुई, को ₹7,000/- का चैक मिला। बड़े स्तर पर पहुँच रखने वाले कुछ बड़े किसानों ने अधिकारियों के साथ साँठगाँठ कर इस पूरे खेल को अंजाम दिया है। इन लोगों ने अधिकारियों को स्वेच्छानुसार आँकड़े उपलब्ध कराए और अधिकारीगण भी बिना निरीक्षण किए ही नाममात्र की कागजी खानापूर्ति कर चले गए।

अतः आपसे अनुरोध है कि इस मामले को अपने संज्ञान में लेकर यथासमय उचित कार्यवाही करें ताकि पीड़ित किसानों को उनका वाजिब मुआवजा मिल सके और वे अपना जीवन सुचारू रूप से यापन कर सकें।

धन्यवाद सहित।
दिनांक ……………..

भावदीय
मनोज चौधरी
गाँव : चौबला

We hope the UP Board Master for Class 12 Samanya Hindi सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र help you. If you have any query regarding UP Board Master for Class 12 Samanya Hindi सफाई हेतु सम्बन्धित अधिकारी को प्रार्थना-पत्र, drop a comment below and we will get back to you at the earliest.

UP board Master for class 12 English chapter list Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

36 − = 29

Share via
Copy link
Powered by Social Snap